अभिनेता श्री वल्लभ व्यास का लंबी बीमारी के बाद आज निधन

अपने सधे अभिनय और दमदार आवाज़ वाले अभिनेता श्रीवल्लभ व्यास का आज दोपहर जयपुर में निधन हो गया। उन्हें लंबे समय से उन्हें उच्च रक्तचाप और पैरालिसिस की समस्या थी जी कारण उन्हें अस्पताल में भर्ती भी करवाया गया था।

 

अभिनेता श्री वल्लभ व्यास ने 50 से अधिक फिल्मे, कुछ टीवी धारावाहिको एवं थिएटर में भी अभिनय किया। “लगान” फ़िल्म में उनके द्वारा निभाये गए चरित्र ‘ईश्वर काका’ से प्रसिद्धि मिली। उसके अलावा सरफरोश, अभय, आन- में एट वर्क, नेताजी सुभाष चंद्रबोस – द फॉरगॉटन हीरो, संकट सिटी, एक विवाह ऐसा भी, दिल बोले हड़िप्पा आदि उनके द्वारा अभिनीत प्रमुख फिल्मे है। सरफरोश फ़िल्म में निभाये पाकिस्तानी डिप्लोमेट के रोल में उन्होंने अपने हाव-भाव से जान-डाल दी थी। 

 

वो पिछले दो सालों से जयपुर में रह रहे थे। 2008 में एक फ़िल्म की शूटिंग के दौरान उन्हें लकवा की समस्या हुई थी, उसके बाद से अपने स्वास्थ्य संबंधित समस्याओं से उनकी सक्रियता कम होती गयी जिसका सीधा असर उनकी आर्थिक स्थिति पर पड़ा। इसी कारण उनका परिवार जैसलमेर से जयपुर शिफ्ट हुए। ‘इस बुरे वक्त में भी सिने और टीवी कलाकार   एसोसिएशन (CINTAA) ने भी उन्हें आर्थिक रूप से समर्थन नही दिया, जबकि एसोसिएशन ने नुकसान से पीड़ित अभिनेताओं की मदद के लिए एक ट्रस्ट स्थापित किया था’, ऐसा उनकी पत्नी शोभा ने कहा। हालांकि एसोसिएशन के सदस्य अरुण बाली ने 1000 रुपये और उपाध्यक्ष गजेंद्र चौहान ने 50000 रुपये का चेक प्रदान किया था, जिसे व्यास जी के परिवार ने स्वीकार करने से इनकार कर दिया था। बाद में अभिनेता इरफान खान, मनोज वाजपेयी और आमिर खान ने व्यास जी के परिवार और उनके इलाज के लिए वितीय सहायता उपलब्ध करवाते थे।

 

मुम्बई मायानगरी की यही विडंबना है कि यदि आप सक्रिय है तो सभी कुछ ठीक है अन्यथा गुमनामी के दौर में सिर्फ आर्थिक तंगी ही साथ रहती है। इस भागते शहर में शुरुआत जितनी तूफानी होती है अंत उतनी ही बर्फानी। आज सभी मीडिया ने उनकी मृत्यु की खबर को प्रमुखता से प्रकाशित किया गया है, काश इतनी तत्परता हम उनके जीवित रहते दिखाते तो वो हमारे साथ स्वस्थ होते। उन्होंने पिछले दस सालों में जिस प्रकार की आर्थिक तंगी का सामना किया है वो इस चमकदार उधोग का दूसरा ही चेहरा दिखता है। हालांकि इस दौरान कुछ साथी सुपरस्टार ने आर्थिक रूप से उनकी मदद की तभी वो इतने साल बीमारियों से संघर्ष कर पाए। ईश्वर उनकी आत्मा को शांति दे।