22 राज्यों में BJP की सरकार, कर्नाटक में भी हुई जीत, आखिर क्या हैं पार्टी की सफलता का राज

भारतीय जनता पार्टी कर्नाटक राज्य विधानसभा चुनाव में सबसे बड़ी पार्टी के तौर पर उभरी है। कर्नाटक चुनाव में BJP ने B.S. येदियुरप्पा को मुख्यमंत्री पद का उम्मीदवार बनाया था। अब जो कि, कर्नाटक में भी BJP कि जीत हुई हैं, तो सबके मन में ये सवाल उठा है कि, आखिर इस पार्टी की सफलता का राज क्या है? ऐसी कौनसी वजह है, जिसके चलते BJP लगातार चुनाव जीते जा रही है और इस बार कर्नाटक में भी अपना परचम BJP ने लहराया हैं। तो ये है वो तौर- तरीके जिसके चलते BJP ने जीता कर्नाटक का चुनाव।

1. BJP के मुख्यमंत्री पद के उम्मीदवार येदियुरप्पा लिंगायत समुदाय से आते हैं, जो राज्य का सबसे बड़ा मतदाता वर्ग हैं। तो ये साफ था की, लिंगायत बहुल इलाकों में BJP की बढ़त होगी और चुनाव के नतीजों को देखने के बाद यह साफ हुआ कि, येदियुरप्पा के नाम का लाभ पार्टी को हुआ है। स्थानीय स्तर पर येदियुरप्पा जी की अपनी एक लोकप्रियता का फायदा भी BJP को इस चुनाव में हुआ।

2. पार्टी के सफलता की एक और वजह हैं, अमित शाह की जमीनी रणनीति और बूथ प्रबंधन के लिए किये गए प्रयास। राष्ट्रीय अध्यक्ष होने के बावजूद उनका कर्नाटक में ही डटे रहने से BJP की चुनावी संभावनाओं को बल मिला।

3. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कर्नाटक के रण में सीधे तौर पर कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी को निशाने पर लिया और सिद्धारमैया के कर्नाटक अस्मिता के सवाल पर उनके राष्ट्रीय अध्यक्ष को ही उलझा दिया। उन्होंने स्वयं को कामदार और राहुल को नामदार साबित करने का पूरा प्रयास किया, जिसका उन्हें लाभ मिला।

4. साथ ही धार्मिक राजनीति करने से भी मोदी-शाह पीछे नही हटे, अपने हिंदुत्ववादी होने का उन्हें एक प्रकार से फायदा ही हुआ और उन्होंने वो बहुत खूब उठाया भी, दोनों ने कर्नाटक में कई मठों का दौरा किया। राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह ने तो खुले तौर पर कहा भी की, वे हर मठ जायेंगे।

5. BJP ने अपने आक्रामक हिंदुत्ववादी चेहरे योगी आदित्यनाथ से भी खूब प्रचार करवाया।

6. केंद्रीय मंत्रियों व BJP शासित राज्यों के मुख्यमंत्रियों ने मोर्चा संभाला।

7. समर्पित नेतृत्व की वजह से भी भाजपा को लगातार सफलता मिल रही हैं। वर्तमान प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में देश की सुदृढ़ अर्थनीति, कृषि का विकास, बेरोजगारी दूर करने के लिए किए गए सफल प्रयास के कारण आज भाजपा पूरे देश में लोकप्रियता के शीर्ष पर है।

8. भारतीय व्यवस्था में, एक पार्टी के तौर पर BJP ने प्रत्येक निर्वाचन क्षेत्र में कुछ हजार अतिरिक्त मतदाताओं को आकर्षित कर जीत हासिल की है और अपने मूल मतदाताओं को भी वफादार रखा है। यह उसकी राज्यों में हाल में ही हुई लगातार जीतों से स्पष्ट है।

9. प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी पूरे देश के लिये काम कर रहे हैं। लोगों में उनके प्रति पूर्ण श्रद्धा और विश्वास है। उनके विकास का तरीका-नीतियां, गरीबों के कल्याण की नीतियां, हर वर्ग के कल्याण के लिये किये कामों पर जनता ने विश्वास व्यक्त किया है।

10. साथ ही एक बात गौर से देखी जाए तो कर्नाटक विजय के लिए भारतीय जनता पार्टी ने आक्रामक तरीके से चुनाव प्रचार लड़ा और ये रणनीति BJP को 104 सीटे दे गई।

11. इस बार कर्नाटक में नरेंद्र मोदी जी की हुई 15 भव्य जनसभाओं का भी कर्नाटक विजय में बहुत ज्यादा योगदान है।

12. भारतीय जनता पार्टी की एक बड़ी विशेषता ये भी रही है कि, वो कमजोर राज्यों में बड़ी संख्या में नेताओं और मंत्रियों के काफिले को उतार कर अपना शक्ति प्रदर्शन कर जनता को अपनी तरफ आकर्षित करती है।

13. इस बार कर्नाटक में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, अमित शाह, राजनाथ सिंह, योगी आदित्यनाथ, स्मृति इरानी, अरूण जेटली, शिवराज सिंह चौहान, देवेंद्र फडनवीश, जैसे दिग्गज नेताओं को कैम्पेन में शामिल किया गया। जो कि सफल नेताओं में गिने जाते हैं। 

14. कर्नाटक की जीत के लिए प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी के सशक्त नेतृत्व और राष्ट्रीय अध्यक्ष श्री अमित शाह के संगठन कौशल को कारण बताया है।

15. इस विजय का श्रेय भाजपा कार्यकर्ताओं को जाता हैं, जो वफादार रहे अपने नेतृत्व से, नेता से और पार्टी से, उन्होंने सौपीं गयी जिम्मेदारी को बखूबी निभाया।

देश के 22 राज्यों में भाजपा और उसके सहयोगी दलों की सरकारें हो रही है। कार्यकर्ताओं के परिश्रम और पार्टी की नीति की स्वीकार्यता ने हमें शिखर पर पहुंचाया है।

इन सब बातों को ध्यान में रखें तो BJP, इस जीत का लाभ नवंबर में होने जा रहे मध्यप्रदेश, राजस्थान व छत्तीसगढ़ चुनावों में लेने की भी भरपूर कोशिश करेगी और पड़ोसी तेलंगाना व आंध्रप्रदेश में भी इसका फायदा लेने की कोशिश BJP जरूर करेगी, जहाँ पर अगले साल विधानसभा चुनाव होने है।