करें अपने कर की बचत ’80 सी’ के द्वारा

tax-PTI-L

हर देशवासी को अपने देश के अर्थव्यवस्था में अपना योगदान देना होता है|  यह योगदान हर व्यक्ति समय पर कर देकर करता है| हर सक्श को अपने इनकम का कुछ भाग सरकार को कर के रूप में दान देना चाहिए इससे देश की अर्थवैवस्था अच्छी तरह से बनी रहती है इससे उन गरीबों को भी मदद मिलती है जो दो वक़्त की रोटी भी नही काना सकते है| हर साल कर भुगतान की अंतिम तिथि सरकार द्वारा तय की जाती है|

आम कर दाता के लिए 31,जुलाई 2018 इस वर्ष कर भुगतान की अंतिम तारीख है| ऐसे में करदाता को कुछ जरुरी जानकारी पर धयान देना चाहिए लेकिन कर दाता के पास सही जानकारी मुहय्या नही हो पति है जिससे कर दाता को काफी साड़ी दिक्कतों का सामना करना पड़ता है| सही जानकारी नही होने के अभाव में कभी कभी कर दाता को लीगल नोटिस का भी सामना करना पड़ता है| ऐसे में करदाता को कुछ नियमों की जानकारी होना आवश्यक है|यह जानकारी उन करदाता के लिए अतिआवशयक है जो अपना आयकर रिटर्न खुद भरते है| अपनी इनकम के अनुसार सबको अपना कर देना होता है| सरकार अपनी तरफ से कई माध्यमों के जरिए लोगो को कर में छुट देती है| हम आपको एक ऐसी ही एक नियम की जानकारी मुहय्या करा रहे है| आयकर की धारा 80 सी के बारे में बताया जा रहा है|

आयकर की धारा 80सी क्या है –

आयकर अधिनियम [1] की धारा 80 सी कुछ निवेशों और व्यय को करों से छुट की अनुमति देता है| इस धारा के अंतर्गत कुल सीमा रु. 1,50,000, जो निमन्लिखित में से किसी में भी किया जा सकता है-

·         पीएफ और पीपीएफ में निवेश

·         राष्ट्रीय बचत पत्र

·         इएलएसएस ELSS

·         डाकघर निवेश

·         युलिय

·         इन्फ्रा बौंड्स

·         नाबार्ड बांड्स

·         लाइफ इन्सौरांस प्रीमियम

इन सभी में से किसी में आप अपना इनकम निवेश कर अपने कर की राशी को कम कर सकते है|

Connect with Us! अपनी राय कमेंट्स में दें. ताजा ख़बरों के लिए हमें फॉलो करें. अगर आपको ये पोस्ट पसंद आई, तो इसे लाइक और शेयर करना न भूलें. Subscribe our Youtube Channel: AajKaReporter Follow us on: Facebook, Twitter, Instagram