उत्तर प्रदेश पुलिस भर्ती परीक्षा में नकल कराने वाले गिरोह का हुआ पर्दाफाश, 3 लोग गिरफ्तार

उत्तर प्रदेश पुलिस भर्ती परीक्षा का आयोजन सोमवार से किया जा रहा है, जिसके मद्देनजर उत्तर प्रदेश सरकार ने सुरक्षा अधिकारियों को कड़े निर्देश दे रखे थे कि परीक्षा में किसी भी प्रकार की अनियमितता ना बरती जाए और ना ही नकल कराने वाले गिरोह सक्रिय रहें। यूपी एसटीएफ की टीम ने इसमें बड़ी कामयाबी हासिल करते हुए नकल कराने वाले गिरोह का पर्दाफाश कर करीब 3 लोगों को गिरफ्तार कर लिया है।

नकल कराने का गिरोह था हाईटेक – 

परीक्षा के पहले ही दिन यूपी एसटीएफ की टीम इतनी सक्रिय थी कि उसने इलाहाबाद और गोरखपुर में हाईटेक तरीके से नकल कराने वाले गिरोह का पर्दाफाश कर दिया। इलाहाबाद के एसएसपी नितिन तिवारी ने बताया कि यह गिरोह बहुत हाईटेक तरीके से नकल कराते थे। नकल कराने वाले गिरोह का एक सदस्य परीक्षा कक्ष में बैठता था, और वहां वो मोबाइल से फोटो खींचकर बाहर बैठे सॉल्वर को प्रश्न पत्र भेजता था। जिसके बाद सॉल्वर उस प्रश्नपत्र को सॉल्व करने के बाद स्पाई माइक के जरिए परीक्षा कक्ष में बैठे परीक्षार्थी को प्रश्नों के उत्तर बताता था।

3 लोगों को किया गया गिरफ्तार –

नकल कराने वाले गिरोह में शामिल इलाहाबाद और गोरखपुर से करीब 3 लोगों को गिरफ्तार किया गया है। यूपी एसटीएफ की टीम ने कुछ लोगों को परीक्षा शुरु होने से पहले और कुछ लोगों को परीक्षा के दौरान लोगों को गिरफ्तार किया है। वरिष्ठ पुलिस अधिकारी अमिताभ यश ने बताया कि इस गिरोह से सिम स्लॉट, स्पाई माइक, के साथ ही कई अन्य इलेक्ट्रॉनिक उपकरण बरामद हुए हैं। इस गिरफ्तारी में अजय यादव, फूलचंद पटेल, मनीष कुमार यादव, को गिरफ्तार किया गया है। साथ ही इस मामले में एक कोचिंग संचालक राधेश्याम पांडे, देवकीनंदन वर्मा, शिक्षक सुधीर यादव को एसटीएफ अभी तक पकड़ने में नाकामयाब रही है क्योंकि ये लोग फरार हैं।

कितने परीक्षार्थी हो रहे हैं शामिल-

उत्तर प्रदेश में 41250 पदों पर सिपाहियों की लिखित परीक्षा का आयोजन किया जा रहा है इस परीक्षा में सम्मिलित होने के लिए लगभग 22.67 लाख छात्रों ने अपना रजिस्ट्रेशन करवाया है। परीक्षा का आयोजन 18 और 19 जून को 56 जिलों में किया जा रहा है। इस परीक्षा के आयोजन के लिए लगभग 807 परीक्षा केंद्रों का निर्धारण किया गया है।

गिरफ्तारी के बाद नकल गिरोह के सदस्यों ने बताया है कि वे लोग नकल कराने के बदले 1 एक छात्र से तकरीबन ₹5 लाख  वसूलते थे। हालांकि एसटीएफ लगातार इस मामले पर नजर बनाए हुए हैं ताकि वह इस घटना में फरार हुए लोगों को गिरफ्तार करके इस मामले को पूरी तरीके से निपटा सके।

Connect with Us! अपनी राय कमेंट्स में दें. ताजा ख़बरों के लिए हमें फॉलो करें. अगर आपको ये पोस्ट पसंद आई, तो इसे लाइक और शेयर करना न भूलें. Subscribe our Youtube Channel: AajKaReporter Follow us on: Facebook, Twitter, Instagram