एक के बाद एक हो रही है शर्मसार करने वाली वारदात, मुज्जफरपुट के बाद अब हाजीपुर शेल्टर होम में कि गई बच्चियों के साथ दरिंदगी

ना जाने इस समाज को क्या होगा है ? आए दिन छोटी छोटी बच्चियों के साथ ऐसे दर्दनाक, शर्मनाक हरकतें होने की वारदात सामने खुल कर आ रही। इन सब के बाद मानो कानून और समाज के लोगों के ऊपर से तो विश्वास ही उठ सा गया है। मुजफ्फरपुर शेल्टर होम का मामला अभी तक सुलझा भी नहीं था फिर ऐसी ही खबर मुज्जफरपुर से लगभग 50 किलोमीटर दूर हाजीपुर स्थित बालगृह से भी बच्चियों के साथ यौन शोषण होने की वारदात सामने आ रही है। हाजीपुर  अल्पवाल गृह में भी बच्चियों के साथ यौन उत्पीड़न और छेड़छाड़ की गई है। वहीं, इस अल्पवाल गृह की बच्चियों ने वरिष्ठ संचालक मनमोहन प्रसाद सिंह पर आरोप लगाया है कि वह अक्सर उनके कमरों में अकेला आता था और उनके साथ बदतमीजी करता था, उन्हें गलत ढंग से छूने की कोशिश करता था।

पूरी जानकारी-

अल्पवाल गृह की बच्चियों के साथ इस तरह का शोषण पिछले कई दिनों से होना था लेकिन जब यह बात आगे बढ़ी तो उन लड़कियों ने हिम्मत करके इस बात को सामने लाने का फैसला किया और उन्होंने वरिष्ठ संचालक मनमोहन प्रसाद सिंह पर आरोप लगाया है कि मनमोहन उन्हें उसकी टांगों को दबाने और मसाज करने के लिए भी मजबूर करता था और ऐसा ना करने पर वह बच्चियों को मारपीट करता था। और जब मनमोहन का मन करता तब वह बच्चियों के साथ बलात्कार करने की कोशिश करता और उनके कपड़े फाड़ देता था। इस बात की पुष्टि अल्पवास गृह की मैनेजर करुणा कुमारी ने कि और अपना बायान दिया कि मनमोहन प्रसाद शेल्टर होम के सभी कर्मचारियों को नीचे जाने को कहता था और खुद अकेला या फिर एक अन्य अधिकारी प्रियंका कुमारी के साथ बच्चियों के पास जाता था। वहीं, बच्चियों का कहना है कि मनमोहन प्रसाद सिंह के खिलाफ पिछले महीने उन्होंने शिकायत भी दर्ज कराई थी जिसपर जिला जज ने मामले की जांच के आदेश दिए थे। जांच रिपोर्ट में आरोप सही पाए जाने पर जिला जज ने मनमोहन प्रसाद को गिरफ्तार करने का आदेश दिया था।

वहीं अब इस मुद्दे को सियासी मुद्दा बनाते हुए खिलवाड़ करना शुरू कर दिया है। दरअसल निदान नाम का जो एनजीओ अल्पवास गृह को चलाता है उसका एग्जिक्यूटिव डायरेक्टर अरबिंद सिंह हैं, जो ऑल इंडिया कांग्रेस कमेटी यानी (AICC) का सदस्य हैं। अब अरबिंद सिंह कांग्रेस के महत्वपूर्ण सेल ऑल इंडिया अनआर्गनाइज्ड वर्कर्स कांग्रेस यानी अखिल भारतीय असंगठित मजदूर कांग्रेस के चेयरमैन हैं। वहीं, इस मामले पर बिहार कांग्रेस अध्यक्ष कौकब कादरी ने कहा कि उनकी पार्टी मुजफ्फरपुर मामले पर लगातार राज्य सरकार पर सवाल उठा रही है और अगर ऐसे किसी मामले में उनके किसी नेता का भी नाम आता है तो वो उस नेता के खिलाफ कार्रवाई करने में बिलकुल भी कतराएंगे नहीं। उन्होंने ये भी कहा कि AICC के अधिकारी पर कार्रवाई उनके अधिकार क्षेत्र से बाहर है इसलिए वो इस मामले को पार्टी हाई कमांड के सामने रखेंगे।

छोटी छोटी बच्चियों के साथ हो रही इस तरह की दरिंदगी पर बिहार क्या पूरा देश शर्मसार है और ना जाने कब यह सब हमरे देश से ख़तम होगा। सरकार हमेशा दिलासा देती रहती है कि हम लड़कियों के साथ हो रहे इस यौन उत्पीड़न को ख़तम कर देगें लेकिन, अब बस यह सब और बढ़ रहा है, ना जाने खत्म कब होगा ??

Connect with Us! अपनी राय कमेंट्स में दें. ताजा ख़बरों के लिए हमें फॉलो करें. अगर आपको ये पोस्ट पसंद आई, तो इसे लाइक और शेयर करना न भूलें. Subscribe our Youtube Channel: AajKaReporter Follow us on: Facebook, Twitter, Instagram