जेएनयू छात्र नेता उमर खालिद पर जानलेवा हमला, पुलिस की ओर से जांच जारी

आज सोमवार को हाइप्रोफाइल एरिया कॉन्स्टीट्यूशन क्लब के बाहर अज्ञात शख्स ने उमर खालिद के ऊपर गोली चलाई। हमलावर तो भाग निकला लेकिन उसकी रिवाल्वर बरामद कर ली गई। उमर खालिद के साथ मौजूद एक प्रत्यक्षदर्शी ने बताया कि उमर खालिद हमारे साथ थे। हम लोग एक चाय की दुकान पर खड़े थे। तभी सफेद शर्ट पहने एक व्यक्ति वहां पहुंचा। उसने उमर खालिद को धक्का दिया और उस पर गोली चला दी। धक्का दिए जाने से खालिद का संतुलन बिगड़ गया और वह नीचे गिर पड़े। इस वजह से वह बच गए और गोली उन्हें नहीं लगी। हमने हमलावर को पकड़ने का प्रयास किया, लेकिन उसने हवाई फायरिंग शुरू कर दी। इस दौरान उसके हाथ से पिस्टल फिसलकर गिर गई और वह भाग निकला। हालांकि अपने उपर हुए हमले के बाद उमर खालिद ने कहा, ‘देश में खौफ का माहौल है और सरकार के खिलाफ बोलने वाले हर व्यक्ति को डराया-धमकाया जा रहा है।’

आपको बता दें कि उमर खालिद JNU में इतिहास से पीएचडी कर रहे हैं। वे DSU संगठन से जुड़े हैं। वे सुर्खियों में तब आए जब 9 अगस्त को देश विरोधी नारे लगाने के कारण उनकी चर्चा हुई। पुलिस हफ्तों तक खालिद को खोजती रही। उनपर 2010 में CRPF जवानों के मारे जाने पर जश्न मनाने का भी आरोप है। साथ ही उमर खालिद का नाम जेएनयू कैंपस में हिंदू देवी देवताओं की आपत्तिजनक तस्वीरें लगाकर नफरत पैदा करने के मामले में भी सामने आया था।

आपको बता दे की उमर खालिद पर हमला हुआ उसके महज 100 मीटर पर संसद भवन, 70 मीटर पर रेल भवन और 70 मीटर पर प्रेस क्लब ऑफ इंडिया है। साथ ही केंद्रीय सचिवालय और पटेल चौक मेट्रो स्टेशन काफी पास में हैं। यहां हमेशा हाई अलर्ट रहता है। उमर ख़ालिद के साथियों के मुताबिक इस मामले में पुलिस भी काफी देर से मौके पर पहुंची थी। जाहिर तौर पर इस घटना के बाद दिल्ली पुलिस की सुरक्षाव्यवस्था पर गंभीर सवाल खड़े होते हैं। आखिर जब 15 अगस्त के मद्देनजर दिल्ली पुलिस चाक चौबंद सुरक्षा का हवाला दे रही है तो फिर क्या वाहनों की ठीक से चेकिंग नही की जा रही थी। कैसे बाइक सवार शख्स हथियार लेकर संसद भवन के पास तक पहुंच गया। वही दूसरी ओर कॉन्स्टिट्यूशन क्लब में आयोजित होने वाले कार्यक्रम में जेएनयू के लापता छात्र नजीब अहमद की मां फातिमा नफीस, हैदराबाद सेंट्रल यूनिवर्सिटी के हॉस्टल रूम में 17 जनवरी 2016 को फांसी लगाकर खुदकुशी करने वाले छात्र रोहित वेमुला की मां राधिका वेमुला, मेवात में उन्मादी हिंसा में मारे गए जुनैद की मां फातिमा, झारखंड में उन्मादी हिंसा में मारे गए अलीमुद्दीन की पत्नी मरयम, हापुड़ में उन्मादी हिंसा का शिकार हुए समयदीन, दिल्ली में मुस्लिम गर्लफ्रैंड के परिवार द्वारा बेरहमी से हत्या किए 23 वर्षीय अंकित सक्सेना के पिता यशपाल सक्सेना, बाबा राघव दास मेडिकल कॉलेज गोरखपुर के निलंबित डॉक्टर काफिल खान समेत सुप्रीम कोर्ट के वरिष्ठ अधिवक्ता प्रशांत भूषण, सांसद मनोज झा, डीयू प्रोफेसर अपूर्वानंद, पूर्वी आईजी एसआर दारापुरी समेत कई वरिष्ठ पत्रकारों को शामिल होना था। इस कार्यक्रम में देश में होने वाली उन्मादी और धार्मिक हिंसाओं जैसेे मुद्दों पर चर्चा होनी थी। पुलिस इस एंगल से भी मामले की जांच कर रही है।

Connect with Us! अपनी राय कमेंट्स में दें. ताजा ख़बरों के लिए हमें फॉलो करें. अगर आपको ये पोस्ट पसंद आई, तो इसे लाइक और शेयर करना न भूलें. Subscribe our Youtube Channel: AajKaReporter Follow us on: Facebook, Twitter, Instagram