देवरिया के नारी संरक्षण गृह में देह व्यापार का खुलासा, 18 लड़कियां गायब

आए दिन बच्चियों के साथ घिनौनी हरकत करने की वारदात सामने आती है। हाल ही में बिहार के मुजफ्फरपुर शेल्टर होम केस का मामला अभी तक ठंडा भी नहीं हुआ था कि एक ऐसा ही और किस्सा उत्तर प्रदेश के देवरिया से सामने आ रहा है। देवरिया के नारी संरक्षण गृह में भी देह व्यापार कराए जाने का खुलासा हुआ है। यह खबर सामने आने के बाद प्रशासन में हड़कंप मच गया है।

बच्ची ने दिखाया साहस 

रविवार 6 अगस्त को जब यूपी पुलिस को इस संरक्षण गृह से किसी तरह अपनी जान बचा कर भाग के आयी बच्ची ने ये जानकारी दी जिसके बाद मामला प्रकाश में आया। छोटी बच्ची कि इस खबर के बाद पुलिस हैरान रह गई, जिसके बाद पुलिस ने तुरंत ही कार्यवाही लेने का फैसला किया और रात में ही संरक्षण गृह पर छापा मारा तो यह पाया की 42 में से 18 लड़कियां गायब हैं। पुलिस ने 24 लड़कियों को इस नर्क से बाहर निकालने के साथ ही गृह की संचालिका गिरिजा त्रिपाठी और उनके पति मोहन को गिरफ्तार कर लिया गया है। इस मामले की जांच कर रहे पुलिस अधीक्षक रोहन पी कनय के मुताबिक,  मां विंध्यवासिनी महिला एवं बालिका संरक्षण गृह नाम के एनजीओ की सूची में 42 लड़कियों के नाम दर्ज हैं, लेकिन पुलिस ने जब रविवार की रात को छापा मारा तो 18 लड़कियां वहां से गायब मिली थी। उस वक्त संरक्षण गृह में सिर्फ 24 लड़कियां ही थी और बाकी की 18 लड़कियों का पता अभी लगाया जा रहा है।

बच्ची का बयान 

पुलिस के मुताबिक संरक्षण गृह के खिलाफ काफी दिनों से यह शिकायत आ रही थी कि इसका संचालन सही तरीके जी नहीं किया जा रहा है, जिसको ध्यान में रखते हुए इसकी मान्यता जून-2017 में समाप्त कर दी गई थी। सीबीआई ने भी संरक्षण गृह को अनियमितताओं में चिह्नित कर रखा है। संचालिका हाईकोर्ट से स्थगनादेश लेकर इसे चला रही है। देवरिया एसपी के मुताबिक बिहार के बेतिया जिले की दस साल की बच्ची वहां से किसी तरह भागकर थाने आई और पूरी जानकारी दी।  बच्ची ने संरक्षण गृह की अनियमितताओं के बारे में बताया कि वहां शाम चार बजे के बाद रोजाना कई लोग कारों से आते थे और मैडम के साथ लड़कियों को लेकर जाते थे, और वे देर रात रोते हुए लौटती थीं।

बच्ची ने पूरी हिम्मत दिखाकर यह कदम उठाया और खुद को और बाकी की लड़कियों को भी इस दलदल से बाहर निकालने का प्रयास किया है। बच्ची ने बताया कि संरक्षण गृह में बच्चियों के साथ गलत काम किया जाता था। देवरिया के संरक्षण गृह पर 42 लड़कियों का नाम दर्ज था, लेकिन सिर्फ 18 ही वहां से मिली है इस मामले में पुलिस पूरी तरह से छानबीन कर रही है और इस संरक्षण गृह की मालकिन और उनके पति को गिरफ्तार करके पूछताछ जारी है।

Connect with Us! अपनी राय कमेंट्स में दें. ताजा ख़बरों के लिए हमें फॉलो करें. अगर आपको ये पोस्ट पसंद आई, तो इसे लाइक और शेयर करना न भूलें. Subscribe our Youtube Channel: AajKaReporter Follow us on: Facebook, Twitter, Instagram