नाना ने की दरिंदगी की सभी हदें पार खुद अपनी 7 साल की नातिन के साथ किया बलात्कार

भारत की राजधानी दिल्ली यूं तो, नए नए तौर तरीके अपना कर खुद को और भी विकसित कर रही है, प्रदूषण को संतुलित करने के लिए नए नए कदम उठा रही है। लेकिन दिल्ली रोज हो रहे बच्चियों के साथ दुष्कर्म, बलात्कार यौन उत्पीड़न होने से नहीं रोक पा रही है। आए दिन इस तरह की वारदातों की खबर दिल्ली से रोज सुनने को मिलती है। दिल्ली में फिर एक बार ऐसा ही कुछ हुआ, जहां 7 साल की बच्ची के साथ खुद उसके नाना ने ही बलात्कार किया। यह खबर सुनकर रिश्तों पर से विश्वास ही उठ गया है।

नाना ने अपनी नातिन के साथ किया दुष्कर्म- 

इस बच्ची की उम्र महज 7 साल की है, लेकिन इस बच्ची ने अपने 7 साल के जीवन में बहुत दुख झेल लिया है। इसकी मां इसे पहले ही छोड़ कर चली गई और बाप ने मां के जाने के बाद बच्ची से रिश्ता ही तोड़ दिया। उसे, उसके नाना-नानी और मामा- मामी के सहारे छोड़ कर चला गया। जिस नाना को बच्चे अपने बाप से भी ज्यादा प्यार करते हैं, उस नाना ने ही अपनी 7 साल की नातिन की मासूमियत का फायदा उठाया और उसे अपनी हवस का शिकार बना लिया। वह 60 वर्षीय नाना 7 साल की बच्ची के साथ रोज बलात्कार करता था। जब उसका मन भर गया तब वह बच्ची को अनाथालय के बाहर ही चुपके से छोड़कर चला गया। जब अनाथालय के लोगों ने उस बच्चे की आंखों से छलकती हुई मासूमियत को देखी और पूछताछ की तो उस बच्ची की दर्दनाक बातें सुनकर, वहां के लोगों के आंखों से आंसुओं ने थमने का नाम नहीं लिया। और अनाथालय के लोगों ने बच्ची के नाना के खिलाफ रिपोर्ट दर्ज कराई और पुलिस ने 14 अगस्त को 7 वर्षीय नाना को गिरफ्तार कर लिया।

पुलिस ने 7 वर्षीय नाना को किया गिरफ्तार-

पुलिस ने 14 अगस्त को 7 साल की बच्ची के नाना को गिरफ्तार कर लिया और उससे पूछताछ की। पूछताछ के बाद नाना ने बताया कि वह मूलनिवासी राजस्थान का है और कई सालों से नांगलोई इलाके के राजधानी पार्क में रहता है। वहां उसका निजी मकान है और पेशे सेवा राजमिस्त्री है। बच्चे की मां ने 2 साल पहले ही अपने पति के टॉर्चर से परेशान होकर खुदकुशी कर ली थी। और पिता ने बच्ची को मामा मामी के सहारे छोड़कर चला गया। धीरे धीरे बच्ची मामी को बोझ लगने लगी और बच्ची को नाना के साथ अकेले छोड़ कर नजफगढ़ चले गए। नाना ने एक रात बच्ची के साथ गलत काम किया फिर उसके बाद यह सिलसिला बढ़ता ही गया। जब नाना को लगा बच्ची समझदार होने लगी है और उस की पोल खोल सकती है तब नाना ने बच्ची को रोहणी के अनाथालय छोड़ कर वहां से चला गया।

दिल्ली की यह खबर सुनकर अब तो लोगों के मन से रिश्तो के ऊपर से विश्वास ही उठ जाएगा। अब तो माता-पिता यही सोचेंगे कि अपनी बच्ची को किसके पास हिफाजत से रख सकते हैं। क्योंकि अब तो बच्चियां खुद अपने घर पर ही नहीं सुरक्षित है तो वह बाहर कहां से सुरक्षित रहेंगे।

Connect with Us! अपनी राय कमेंट्स में दें. ताजा ख़बरों के लिए हमें फॉलो करें. अगर आपको ये पोस्ट पसंद आई, तो इसे लाइक और शेयर करना न भूलें. Subscribe our Youtube Channel: AajKaReporter Follow us on: Facebook, Twitter, Instagram