लड़की ने बहादुरी दिखा किया गिरोह का पर्दाफाश, पुलिस भी रह गयी दंग

हाल ही में एक लड़की ने एक ऐसा बहादुरी का काम किया है जिसे सुन कर सभी लोगो ने उसकी प्रशंसा की है। जी हां हम बात कर रहे है उसी लड़की की जिसने हाल ही में एक गिरोह का पर्दा फाश किया है। यह मामला पंजाब का है। गांव राउकेकलां में थाना बधनीकलां पुलिस की मिलीभगत से तीन ठगों ने मिलकर भोले-भाले लोगों को चिट्ठी भेजकर और पुलिस से हाथ मिलाकर नशा तस्करी में लाखों रुपयो की ठगी की है जिसका पर्दाफाश एक युवती ने कर दिया। इस गरोह में एक सफेदपोश आदमी इस इलाके के पूर्व विधायक का करीबी भी है।

वही दूसरी ओर सामाजिक बदनामी के  डर से चुप कुछ पीड़ितों ने एसएसपी को इस गिरोह के बारे में कुछ जानकारी प्रदान की जिसपर एसएसपी गुरप्रीत सिंह  तूर जी ने कहा है कि यह एक बहुत ही गंभीर मामला है।  डीएसपी (आई) हरिंदर सिंह डोड को इस मामले की जांच पड़ताल सौंपी गई है और उन्होंने कहा है कि सभी पीड़ितों के बयान दर्ज करेंगे और फिर कानूनी कार्रवाई होगी। गांव राउकेकलां के सरपंच स्वर्ण सिंह, गुरचरन सिंह पूर्व ब्लाक समिति मेंबर, सरबन सिंह ब्लाक समिति मेंबर, सुखवीर सिंह पूर्व सरपंच राउकेकलां, सुखदेव सिंह सरपंच गांव हिम्मतपुरा, गुरजंट सिंह यूथ कांग्रेस नेता के नेतृत्व ने इस गिरोह की गिरफ्तारी की मांग को लेकर वे सभी  जिला पुलिस प्रमुख से मिले।

पुलिस ने बताया कि एक भोले-भाले परिवार से  एक 65 साल के बुजुर्ग ने ठगी करने के लिए एक महिला पंच के पति से साजिश तैयार कर चिट्ठी तैयार की जोकि  डाक के जरिये महिला पंच के पति को भेजी गई जिसमे लिखा था कि ‘आपकी लड़की एक लड़के से 5 लाख रुपये लेकर खा गई और उसने शादी का इकरार भी किया था।’ और  अगर आप यह पूरी  रकम नहीं चुकाते  हो तो इस बारे में इश्तिहार सभी जगह लगा दिए जाएंगे और लड़की को भी उठाकर ले जाएंगे। इस चिट्ठी को लेकर महिला पंच का पति चिट्ठी लिखने वाले बुजुर्ग को साथ लेकर लड़की परिवार के पास गया और चिट्ठी को दिखाकर 5 लाख की मांग करने लगा।

यह बात को सुनते ही लड़की के परिवार वालो के पैरों तले जमीन खिसक गई। इसी पर पोस्ट ग्रेजुएशन युवती ने भी सामने आकर चिठ्ठी को अपने कब्जे में  लेकर  गिरोह के सदस्यों को ललकारा। उसने कहा कि मैं इन  सफेदपोशों की असली सच्चाई सबके सामने लाऊंगी। जिसके बाद गिरोह के सदस्य युवती से चिट्ठी की वापसी की  मांग करने लगे और पीड़ित परिवार को थाने न जाने के लिए दबाव डालने लगे। पीड़ित परिवार ने इस  सारे मामले की जानकारी गांव के सरपंच और अन्य राजनीतिक नेताओं को दी और साथ ही जिला पुलिस प्रमुख के पास शिकायत की।

पीड़ित परिवार ने अपनी कुछ जरुरतो के कारण अपनी जमीन भी बेची थी और उस जमीन के पैसो को हड़पने के लिए इस गिरोह ने लड़की को बदनाम करके ठगी करने की सोची। इस गिरोह का एक मेंबर अब अपने  एक जानकार विधायक की सहायता लेकर कार्रवाई को रुकवाने और एक पुलिस अफसर का तबादला कराने के लिए अपनी पूरी कोशिश कर रहा है।

इस युवती को अब हर जगह से लोग सराह रहे हैं और काफी प्रशंसा भी कर रहे हैं। ऐसे बहुत से भोले-भाले लोग हैं जिन्होंने बदनामी के डर से कुछ कदम नही उठाया और गिरोह की बात मानकर उन्हें बढावा दिया।
इस गिरोह ने एक अन्य परिवार से भी 4 लाख रुपये ठगे हैं और अब मामले के मीडिया में आने के बाद उसमें से सवा लाख रुपये की रकम वापस कर दी गई है। जिस परिवार से यह ठगी की गई उनके घर शादी होने वाली थी और  पहले उनके घर पुलिसकर्मी को भेजकर उनसे कहा था कि जिस लड़के की शादी है, वह तो नशा बेचता है। इन सब बाद गिरोह के आदमी उनके घर पहुंच गए और मामले को रफा दफा करने के बदले 4 लाख रुपयो की मांग करने लगे। इस तरह अन्य लोगों से भी काफी ब्लैकमेलिंग की घटनाएं सामने आ चुकी हैं परंतु सामाजिक बदनामी के कारण कोई पुलिस के पास शिकायत दर्ज कराने के लिए नहीं जाता। पुलिस के सूत्रों के अनुसार सीआईए स्टाफ पुलिस ने चिट्ठी लिखने वाले बुजुर्ग को हिरासत में लेलिया है और उससे  पूछताछ की गई है तो उन्होंने अपना चिट्ठी लिखकर ब्लैकमेल करने का गुना स्वीकार कर लिया है और आगे की कार्रवाई जारी है।

Connect with Us! अपनी राय कमेंट्स में दें. ताजा ख़बरों के लिए हमें फॉलो करें. अगर आपको ये पोस्ट पसंद आई, तो इसे लाइक और शेयर करना न भूलें. Subscribe our Youtube Channel: AajKaReporter Follow us on: Facebook, Twitter, Instagram