शेख हसीना पर हमले के मामले में 19 लोगों को फांसी की सजा

बांग्लादेश की पूर्व प्रधानमंत्री शेख हसीना का नाम आज हर कोई जानता है क्योंकि उनके ऊपर जिस तरह से बेरहमी की हदों को पार करते हुए हमला किया गया था और कोई भी नहीं भुला सकता है लेकिन अदालत ने इस मामले का फैसला सुनाते हुए एक ऐतिहासिक न्याय किया है अदालत में सेना पर हमले के मामले में 19 दोषियों को फांसी की सजा सुनाई है।

2004 का है मामला – 

साल 2004 में आवामी लीग की एक रैली का आयोजन किया गया था जिसमें हजारों की संख्या में लोग उपस्थित थे लेकिन शेख हसीना इस बात से बिल्कुल अंजान थीं कि उन पर जानलेवा हमला भी हो सकता है। इस हमले में लगभग 500 लोग घायल हुए थे और 24 लोगों की मौत हो गई थी वही सबसे बड़ी बात है यह कि इसमें विपक्ष का एक बड़ा नेता भी शामिल था। यह और कोई नहीं बल्कि पर्व प्रधानमंत्री खालिद जिया के बेटे तारिक रहमान हैं। वहीं भ्रष्टाचार के मामलों में खालिद पहले से ही जेल में बंद हैं। वहीं अब उनके बेटे पर उम्र कैद की सजा सुनाई गई है जो कि उनके बेटे को हर हालत में भुगतनी पड़ेगी।

गौरतलब है कि इस हमले में शेख हसीना बाल बाल बच गई थी लेकिन उनकी सुनने की क्षमता को काफी नुकसान पहुंचा था क्योंकि धमाका इतना तेज था कि उनके कान में काफी तेज शोर हुआ जिसकी वजह से उनके सुनने की क्षमता में काफी कमी आ गई। फिलहाल अदालत के इस फैसले को ऐतिहासिक फैसले के रूप में देखा जा रहा है।

Connect with Us! अपनी राय कमेंट्स में दें. ताजा ख़बरों के लिए हमें फॉलो करें. अगर आपको ये पोस्ट पसंद आई, तो इसे लाइक और शेयर करना न भूलें. Subscribe our Youtube Channel: AajKaReporter Follow us on: Facebook, Twitter, Instagram