सुनंदा पुष्कर मौत केसः आरोपी से दोषी साबित हुए तो शशि थरूर को हो सकती है बड़ी सजा

सुनंदा पुष्कर की खुदकुशी देश के सबसे चर्चित व विवादास्पद मामलों में से एक है।इस मामले को लेकर आज दिल्ली पुलिस की ओर से कोंग्रेस के माजी मंत्री शशी थरूर पर उनकी धर्मपत्नी सुनंदा पुष्कर की हत्या के मामले में चार्जशीट फाइल किया गया। चार्जशीट दर्ज करने के बाद थरूर ने पुलिस की ओर से दाखिल किए गए चार्जशीट पर अपने ओर से कहा कि, ‘साल 2017 के अक्टूबर में कानून अधिकारी ने दिल्ली हाईकोर्ट में किये गए बयान में कहा था, उन्होंने किसी के खिलाफ कुछ भी नहीं पाया है और अब 6 महीने बाद वे कह रहें हैं कि, मैंने आत्महत्या के लिए उकसाया है। ‘बता दें कि, आज पटियाला हाउस हाईकोर्ट में दाखिल चार्जशीट में दिल्ली पुलिस ने थरूर का नाम एक अभियुक्त के तौर पर पेश किया है।

 

घटना कुछ इस तरह घटी है,

शशि थरूर और उनकी पत्नी सुनंदा पुष्कर के घर का रिनोवेशन चल रहा था, इसलिए दोनों एकसाथ चानक्यपुरी स्थित फाइव स्टार लीला होटल में कुछ दिनों के लिए शिफ्ट हुए थे। ऐसे में 17 जनवरी 2014 के दिन की शाम जब शशि थरूर सुनंदा पुष्कर को उठाने के लिए उनके पास गए, टैब उन्होंने पाया की, उनकी बीवी सुनंदा पुष्कर नींद से नहीं जाग रहीं, कुछ बार प्रयास करने के बाद वो समझ गए कि, सुनंदा पुष्कर की डेथ हो गयी हैं, उन्होंने फौरन ही इस बात की सूचना दिल्ली पुलिस को दे दी। जिसके बाद सुनंदा पुष्कर के शव को पोस्टमॉर्टम के लिए भेज दिया गया। पहले तो ये खबरें आई थी कि, सुनंदा पुष्कर ने आत्महत्या की है लेकिन बाद में पता चला कि, सुनंदा पुष्कर की मौत ड्रग ओवरडोज के वजह से हुई है। एम्स में किए गए पोस्टमार्टम में डॉक्टरों ने सुनंदा के शरीर में कुछ दवाइयों के मिलने की बात की थी। इसके बाद सुनंदा पुष्कर के मृत शरीर का पोस्टमार्टम करने वाले एम्स के डॉक्टरों की टीम के प्रमुख सुधीर गुप्ता ने आरोप लगाया कि, उन पर पोस्टमार्टम रिपोर्ट के साथ छेड़छाड़ करने का दबाव बनाया जा रहा था। डॉक्टर गुप्ता के अनुसार सुनंदा के शरीर पर चोट के निशान भी थे। हालांकि इन चोटों से किसी की मौत नहीं हो सकती थी। पर दो संदेहास्पद निशान भी सुनन्दा के शरीर पर मौजूद थे- एक इंजेक्शन का व एक काटे जाने का। इस मामले में आगे भी कई उतार-चढ़ाव आते रहे। भाजपा नेता सुब्रमण्यम स्वामी ने दिल्ली उच्च न्यायालय में कोर्ट की निगरानी में इस केस की जांच प्रक्रिया को आगे बढाने की अर्जी दाखिल की थी।

 

इस मामले में पुलिस के अनुसार नलिनी वह आखरी व्यक्ति थी जिनसे सुनंदा ने बात की। नलिनी के मुताबिक सुनंदा को शक था कि, मेहर तरार का उनके पति के साथ अफेयर चल रहा है। सुनंदा इस बात को लेकर बेहद नाराज और तनाव में थीं। मरने से पूर्व कई हफ्तों तक दोनों के बीच झगड़े हुए थे। इससे थरूर तंग आ चुके थे। सुनंदा ने मौत से एक दिन पहले 16 जनवरी की रात नलिनी सिंह को फोन कर ये बातें बताई थीं। उन्होंने नलिनी सिंह से कहा था, मुझे पूरा यकीन है कि शशि, मेहर से शादी करने जा रहे हैं। इतना ही नहीं बल्कि, सुनंदा के दुबई में रहने वाले दोस्तों ने भी उन्हें बताया था कि, शशि ने जून 2013 में मेहर तरार के साथ तीन दिन दुबई के होटल में बिताए थे। दोस्तों ने सुनंदा को इस बात के सबूत भी उपलब्ध कराए थे। इसके बाद से शशि व सुनंदा में विवाद बढ़ गया था। शशि थरूर के घरेलू सहायक नारायण ने भी SDM व सरोजनी नगर थाना पुलिस को दिए बयान में कहा था कि, दोनों के बीच कई दिनों से लगातार झगड़ा चल रहा था। झगड़े की वजह न केवल मेहर थीं, बल्कि उसने एक अन्य महिला का भी नाम लिया था।

दिल्ली पुलिस के प्रवक्ता ने कहा की, “ये चार्जशीट मेडिकल और फॉरेंसिक रिपोर्टों के विश्लेषण और मनोवैज्ञानिकों की राय के पुख्ता आधारों पर फाइल की गई है।” इस कांग्रेस नेता पर भारतीय दंड संहिता की धारा 498 ए ( पति या उसके रिश्तेदारों द्वारा महिला को प्रताड़ित करना ) और 306 ( खुदकुशी के लिए उकसाना ) के तहत आरोप लगाए गए हैं। 3000 पन्नों के चार्टशीट में ये सभी आरोप मेडिकल रिपोर्ट और फॉरेंसिक सूबतों के आधार पर लगाए गए है। पुलिस ने यहां एक अदालत में कहा कि उन्हें हिरासत में लेकर पूछताछ किये जाने की जरूरत है क्योंकि जांच अभी पूरी नहीं हुई है। पुलिस ने यह भी आरोप लगाया है कि थरूर अपनी पत्नी से क्रूरता करते थे। पुलिस ने आज मेट्रोपोलिटन मजिस्ट्रेट धमेंद्र सिंह के समक्ष आरोप पत्र दायर किया जो इस पर 24 मई को विचार करेंगे।

Connect with Us! अपनी राय कमेंट्स में दें. ताजा ख़बरों के लिए हमें फॉलो करें. अगर आपको ये पोस्ट पसंद आई, तो इसे लाइक और शेयर करना न भूलें. Subscribe our Youtube Channel: AajKaReporter Follow us on: Facebook, Twitter, Instagram