सुनोयिजित थी भीमा कोरेगांव हिंसा, जारी हुई यह रिपोर्ट

भीमा कोरेगांव हिंसा के बारे में तो आप सभी लोगों ने सुना होगा क्योंकि यह जनवरी महीने की एक ऐसे ही हिंसा थी जो पूरे देश में उस समय चर्चा का विषय बन गई थी। हालांकि इसकी जांच करने के लिए 9 सदस्य टीम को गठित किया गया था, जिसने इस मामले में अपनी जांच रिपोर्ट तैयार करके कोल्हापुर रेंज के आईजीपी को एक रिपोर्ट सौंपी है।

क्या कहा गया रिपोर्ट में – 

भीमा कोरेगांव हिंसा की जांच कर रही 9 सदस्यी टीम ने एक रिपोर्ट जारी की है । भीमा कोरेगांव हिंसा पर जारी की गई रिपोर्ट में कई सनसनीखेज खुलासे किए गए हैं। रिपोर्ट में कहा गया है कि इसमें पुलिसिया कार्यवाही भी काफी लापरवाही भरी दिख रही है।रिपोर्ट सौंपते हुए कहा गया कि ‘हमारी समिति के सदस्यों ने उन स्थानों का दौरा किया जहां हिंसा हुई थी। स्पॉट यात्राओं के साथ-साथ हमने ग्रामीणों और पुलिसकर्मियों के साक्षात्कार भी किए थे। स्वतंत्र जांच के बाद, हम एक निष्कर्ष पर आ गए हैं कि यह एक पूर्व-नियोजित हिंसा थी। अपराधियों ने पहले से ही उन स्थानों पर व्यवस्था की थी जहां छड़ें और पत्थरों को पहले ही स्टॉक किया गया था।”

रिपोर्ट सौंपते हुए समिति ने इस बात का भी दावा किया  है कि भीमा कोरेगांव हिंसा तो सुनियोजित थी ही  लेकिन इस हिंसा को अंजाम देने के लिए दो शख्स ने पूरी कार्यप्रणाली का स्वरूप तैयार किया हुआ था। भीमा कोरेगांव हिंसा मामले में पुणे के डिप्टी मेयर डॉ. सिद्धार्थ धेंडे के नेतृत्व में बनी तथ्यों की खोज के लिए बनी 9 सदस्यीय समिति ने यह कहा है कि भीमा कोरेगांव में 1 जनवरी को जो हिंसा हुई थी वह पूर्व योजनाबद्ध थी और राइट विंग के कार्यकर्ता संभाजी भिड़े और मिलिंद एकबोट द्वारा बनाई गई थी।

Connect with Us! अपनी राय कमेंट्स में दें. ताजा ख़बरों के लिए हमें फॉलो करें. अगर आपको ये पोस्ट पसंद आई, तो इसे लाइक और शेयर करना न भूलें. Subscribe our Youtube Channel: AajKaReporter Follow us on: Facebook, Twitter, Instagram