जानिए आखिर कबाड़ी की दुकानों पर क्यों खोजी जा रही है बिहार मीट्रिक की 40 हज़ार कॉपियां !

बिहार में गोपालगंज में स्थित एसएस गर्ल्स स्कूल से मैट्रिक की 40 हजार 400 प्रतियों के गायब होने के मामले में  एसआईटी के मैराथन जांच के बाद भी, रैकेट का अब तक पता नहीं लगाया जा सका है। लापता कॉपियों की तलाश में कबाड़ी दुकानदार से पूछताछ के साथ दुकानों की तलाशी ली जा रही हैं|

एसआईटी षड्यंत्र और शिक्षा माफिया के सिंडिकेट एंगल के तहत मामलों में तथ्यों को इकट्ठा करने में लगा हुआ है। यहां एसआईटी की निरंतर जांच के बाद भी नतीजा  असहज है जिससे शीर्ष अधिकारियों की अनुपलब्धता बढ़ती जा रही हैं । एसपी रशीद जाम खुद इस मुद्दे को हल करने में लगे हुए हैं। उन्होंने स्कूल कर्मियों से मामले में खुद से पूछताछ की है। एसआईटी की पड़ताल की सारण प्रमंडल व पटना के आला अधिकारी भी मॉनिटरिंग कर रहे हैं।

स्कूल के अन्य शिक्षकों से भी टीम के सदस्य बारी-बारी से पूछताछ कर चुके हैं। लेकिन मामले से संबंधित बिखरी कड़ियां नहीं जुड़ पा रही है। सूत्रों के अनुसार स्कूल के शिक्षक मामले से अनभिज्ञता जाहिर कर रहे हैं।

सूत्रों के मुताबिक मामले को उजागर करने के बाद प्रिंसिपल को पटना में बोर्ड ऑफिस में बुलाया गया था। प्रधानाचार्य पटना एक स्कार्पियो कार से गए थे। पुलिस उस कार के मालिक भी पूछताछ की तैयारी कर रही हैं| इसी मुद्दे पर एसडीपीओ नीरज कुमार सिंह ने कहा कि मामले की जांच की जा रही है। गायब प्रतियों को पुनर्प्राप्त करने के लिए भी कार्रवाई की जा रही है। अब तक कोई ठोस सुराग हाथ नहीं आया है।

मामले में पूछताछ के लिए गिरफ्तार किये गए एसएस गर्ल्स स्कूल के प्रिंसिपल प्रमोद कुमार श्रीवास्तव से किए गए पूछताछ में कोई ठोस तथ्य नहीं मिला है। प्रिंसिपल का कहना है कि उन्हें बोर्ड से जानकारी  सत्यापन के लिए प्रतियों की मांग करने पर मिली| इसके बाद उन्होंने शहर पुलिस स्टेशन में प्राथमिकी दर्ज की। उल्लेखनीय है कि प्राचार्य ने स्कूल के स्ट्रांग रूम से कॉपियों की चोरी होने की आशंका जाहिर करते हुए स्कूल के आदेशपाल व रात्रि प्रहरी समेत अन्य शिक्षकेत्तर कर्मियों के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज कराई थी।

बिहार में टॉपर घोटाला भले ही ठीक हुआ हो या कहें तो शांत हो गया हो परन्तु जिस तरह से baccho द्वारा लिखी उत्तर कॉपियों को गायब होने के बाद ठिकाने लगाया गया है उससे सुशासन बाबू नितीश कुमार के राज में विद्यालय शिक्षा की काली लीपापोती एक बार फिर  सामने आ चुकी है| देखते है सरकार क्या करेगी अबकी बार इस मुद्दे पर|

Connect with Us! अपनी राय कमेंट्स में दें. ताजा ख़बरों के लिए हमें फॉलो करें. अगर आपको ये पोस्ट पसंद आई, तो इसे लाइक और शेयर करना न भूलें. Subscribe our Youtube Channel: AajKaReporter Follow us on: Facebook, Twitter, Instagram