जेईई एडवांस की परीक्षा 20 मई को, रजिस्ट्रेशन 2-7 मई तक

देश ही नहीं बल्कि विश्व के कठिनतम व प्रतिष्ठित प्रवेश परीक्षाओं में से एक जेईई एडवांस 20 मई को आयोजित की जाएगी। ज्ञात हो कि जेईई एडवांस देश के 23 आईआईटी में दाखिले के लिए प्रवेश परीक्षा होती है। पहली बार यह परीक्षा, कंप्यूटर बेस्ड होने वाली है, इससे पूर्व यह ऑफलाइन ही होती थी। कंप्यूटर बेस्ड परीक्षा का मतलब ‘ऑनलाइन परीक्षा’ कतई नहीं है, यह परीक्षा कंप्यूटर पर जरूर होगी किन्तु उसमें इंटरनेट का इस्तेमाल नहीं होगा। हमारे संवाददाता एस. के. पूरी ने परीक्षा समन्वयक ‘प्रलय दास’ से परीक्षा की तैयारियों, पैटर्न और अन्य मुद्दों पर विस्तृत बात की, पेश है उसके प्रमुख अंश;
◆ यह परीक्षा ‘कंप्यूटर बेस्ड’ जरूर होगी किन्तु ऑनलाइन नहीं, इसका मतलब इस परीक्षा में इंटरनेट का इस्तेमाल नहीं होगा।
◆ कानपुर आईआईटी इस परीक्षा का आयोजन करेगी, पटना आईआईटी इसमें           उनको सहयोग करेंगी।
◆ नार्थ-ईस्ट जोन में ‘गुवहाटी आईआईटी’ क्षेत्रीय परीक्षा समन्वयक की भूमिका में होगी।
◆ परीक्षा केंद्रों का निर्धारण ‘आईआईटी कानपुर’ के द्वारा किया जाएगा।

◆ इस वर्ष बिहार से 10,000 से अधिक परीक्षार्थियो के जेईई एडवांस में बैठने की उम्मीद है।
◆ जेईई मेंस के रिजल्ट के बाद एडवांस के निबंधन की प्रक्रिया शुरू होगी।
◆ परीक्षार्थियो को परीक्षा पैटर्न से परिचित करवाने के लिए वेबसाइट पर पिछले एक माह से मॉडल सेट्स अपलोड किए जा रहे है, जहां परीक्षार्थी जाकर टेस्ट दे सकते है।
◆ इन मॉक टेस्ट्स से परीक्षार्थीयों को होने वाली ‘कंप्यूटर बेस्ड’ परीक्षा का ही फील आएगा और वो परीक्षा के दिन सहज महसूस करेंगे।
◆ अभी तक 6 मॉक टेस्ट वेबसाइट पर अपलोड किए जा चुके है, परीक्षार्थी मॉक टेस्ट के लिए लिंक पर जाय  https://www.jeeadv.ac.in
◆ परीक्षार्थियों की मॉक टेस्ट एवं ‘कंप्यूटर बेस्ड टेस्ट(CBT)’ को समझने में सहायता के लिए एक वीडियो भी अपलोड किया गया है।
◆ एडवांस के रजिस्ट्रेशन के वक़्त प्रत्येक परीक्षार्थी को परीक्षा केंद्र के रूप में अपने जोन से पांच शहरों का चुनाव करना होगा।

पहली बार जेईई एडवांस की परीक्षा ‘कॉम्प्यूटर बेस्ड’ होने वाली है तो हमने कुछ विशेषज्ञों से बात की व इसकी फीडबैक लिया, आईआईटियन तपस्या के डायरेक्टर प्रशांत चौबे जो कि खुद भी आईआईटीयन है ने कहा”इसके दोनो ही पहलू है, एक तरफ पूरी प्रक्रिया जहां में तेजी आएगी, पेन और पेपर का इस्तेमाल नहीं होगा, वहीं शायद प्रश्न पत्र लीक होने की संभावना बढ़ जाएगी, ऐसा न हो इसके लिए पुख्ता तैयारी करनी होगी। आईआईटी का जल्दबाजी में लिया गया कदम है जिससे कि गरीब एवं ग्रामीण बच्चे, जिनकी संख्या ज्यादा है वो कंप्यूटर से फ्रेंडली भी नहीं हैं, उनका डर कंप्यूटर बेस्ड टेस्ट से और बढ़ जाएगा और रिजल्ट प्रभावित होगा।”

एलिट के अमरजीत झा गौतम ने कहा कि”जो छात्र जेईई एडवांस की तैयारी कर रहे थे वो कंप्यूटर बेस्ड परीक्षा के लिए ही तैयारी कर रहे थे इसलिए कोई असुविधा नहीं होनी चाहिए। अभी परीक्षार्थीयों को पिछले साल के प्रश्नों को सॉल्व करना चाहिए ताकि उनकी प्रैक्टिस होती रहे। रिवीजन करते रहे,आत्मविश्वास बांये रखे, उन्हें एडवांस की परीक्षा के लिए शुभकामनाएं।”

“बिहार जैसे राज्य जहां की अधिकांश बच्चे गांवो  से आते है, वो विषयों की तैयारी तो कर लेते है किंतु ‘माउस’ और कंप्यूटर उनके लिए आज भी मुश्किल है। विडंबना यह है कि अटेम्प्ट्स भी लिमिटेड है। यह एक जल्दबाजी में लिया गया निर्णय है।” आईआईटियन तपस्या के निदेशक पंकज कपाड़िया ने कहा।

बिहार जैसे राज्य जहाँ से जेईई एडवांस में इस वर्ष 10,000 से ज्यादा परीक्षार्थियों के बैठने की उम्मीद है, ज्यादातर बच्चे सुदूर गांव से आते है, कंप्यूटर आज भी उनकी पहुच से दूर है। उनके लिए कंप्यूटर बेस्ड टेस्ट एक चुनैती ही है, हालाकिं जिन छात्रों ने एडवांस के बारे में सोच होगा उन्होंने उसकी तैयारी भी कम्प्यूटर बेस्ड ही कि होगी, थोड़ी असुविधा जरूर हो सकती है किन्तु परिक्षा भी तो यही ही है कि आप चुनौतियों से कैसे पार पाते है।
बदलते वक्त के साथ बहुत कुछ बदलता है, हालांकि आईआईटी परीक्षार्थियों को जेईई एडवांस की परीक्षा में असुविधा न हो इसके लिए हरसंभव प्रयास कर रही है, इसके लिए कंप्यूटर बेस्ड टेस्ट एवं मॉक टेस्ट के लिए वीडियो एवं आज तक 6 मॉक टेस्ट अपलोड किया जा चुका है। परीक्षार्थियों को चाहिए कि वो इन मॉक टेस्ट को सॉल्व करे, ताकि परीक्षा के दिन वो सहज रहे।
जेईई एडवांस के सभी छात्रों को परीक्षा के लिए शुभकामनाएं, आप सदैव अग्रसर रहे।

Connect with Us! अपनी राय कमेंट्स में दें. ताजा ख़बरों के लिए हमें फॉलो करें. अगर आपको ये पोस्ट पसंद आई, तो इसे लाइक और शेयर करना न भूलें. Subscribe our Youtube Channel: AajKaReporter Follow us on: Facebook, Twitter, Instagram