पटना विश्विद्यालय शताब्दी समारोह में प्रधानमंत्री ने 10000 करोड़ का तोहफा दिया

पटना विश्वविद्यालय के शताब्दी समारोह में मुख्य अतिथि के रूप में शामिल प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अपने  संबोधन में कहा कि पटना विश्वविद्यालय भारत का 7वां प्राचीनतम विश्वविद्यालय है, इसका अतीत शानदार और गौरवशाली है। उन्होंने वैश्विक स्तर पर शिक्षा और शिक्षण संस्थानों के बदलते स्वरूप और इस बदलते स्वरूप में भारत की स्थिति के बारे में बताया। उन्होंने कहा कि ये बिडम्बना ही है कि जिस देश की शिक्षा और शिक्षण संस्थान सर्वश्रेष्ठ होते थे, वर्तमान में उस देश का एक भी शिक्षण संस्थान विश्व के टॉप 500 शिक्षण संस्थानों में शामिल नही है। नालंदा और विक्रमशिला जैसे शिक्षण संस्थान पूरे विश्व मे अपने अतुल्यनीय शिक्षा के लिए प्रसिद्ध थे, वहाँ आज शिक्षा की स्थिति बदतर है।

प्रधानमंत्री ने कहा कि वर्तमान शिक्षा स्तर को वैश्विक स्तर का बनाने के लिए केंद्र सरकार 10,000 करोड़ रुपये की सहायता 10 निजी और 10 सरकारी विश्विद्यालयों को देगी। विश्विद्यालयों का चयन किसी के भी सिफारिश से नही बल्कि एक तृतीय पक्ष के द्वारा पारदर्शिता से विश्विद्यालयों के  प्रदर्शन, इतिहास, गुणवत्ता आदि का मूल्यांकन करने के बाद दिया जाएगा। विश्वविद्यालयों को खुद को वैश्विक स्तर का बनाने के लिए सदैव तत्पर रहना होगा।

 

पटना विश्वविद्यालय के शताब्दी समारोह में प्रधानमंत्री के साथ मुख्यमंत्री नीतीश कुँअर, उपमुख्यमंत्री सुशील मोदी, केंद्रीय मंत्री रामविलाश पासवान, रविशंकर और बिहार के राज्यपाल सत्यपाल मालिक उपस्थित थे।

Connect with Us! अपनी राय कमेंट्स में दें. ताजा ख़बरों के लिए हमें फॉलो करें. अगर आपको ये पोस्ट पसंद आई, तो इसे लाइक और शेयर करना न भूलें. Subscribe our Youtube Channel: AajKaReporter Follow us on: Facebook, Twitter, Instagram