तो इसलिए खास है हिंदी दिवस

14 सितंबर का दिन भारत में हिंदी दिवस के रुप में मनाया जाता है और इस दिन को हिंदी दिवस के रूप में घोषित किया गया है। हिंदी दिवस की खास बात यह है कि हिंदी की उपयोगिता का स्तर दिनों दिन जिस गर्त में जा रहा है उस गर्त से उबारने के लिए हिंदी दिवस की स्थापना की गई, ताकि हिंदी के सृजन और गठन में नई संरचनात्मक प्रक्रिया को शुरु किया जा सके। हालांकि बीच में हिंदी की स्थिति काफी दयनीय हुई, लेकिन एक बार लोगों की बड़ी दिलचस्पी ने हिंदी दिवस को और भी सार्थक बनाया है।

संविधान में लिया गया था फैसला – 

हिंदी की उपयोगिता को भारत में बनाए रखने के लिए कई लोगों ने उच्चस्तरीय पहल की जिनमें से एक पहल यह भी थी कि हिंदी को सार्थक बनाने के लिए उसे  किसी दिवस के रूप में घोषणा की जाए। जिसके बाद 14 सितंबर 1949 को एकमत से यह फैसला लिया गया कि भारत की राजभाषा हिंदी होगी। इसके बाद हिंदी के प्रचार-प्रसार और फैलाव के लिए वर्धा स्थित राष्ट्रभाषा प्रचार समिति ने अनुरोध किया कि 14 सितंबर को हिंदी दिवस के रूप में घोषित किया जाए। इस पर विचार किया गया और 14 सितंबर 1953 से 14 सितंबर को  हिंदी दिवस के रूप में घोषित कर दिया गया। संविधान में भी हिंदी को विशेष स्थान दिया गया है। भारतीय संविधान के भाग 17 के अध्‍याय की धारा 343 (1) में हिन्‍दी को राजभाषा बनाए जाने के संदर्भ में कुछ इस तरह लिखा गया है कि, ‘संघ की राजभाषा हिन्दी और लिपि देवनागरी होगी। संघ के राजकीय प्रयोजनों के लिए प्रयोग होने वाले अंकों का रूप अंतर्राष्ट्रीय रूप होगा।’

भारत की पृष्ठभूमि एक ऐसी पृष्ठभूमि है जहां पर विभिन्न सभ्यताओं संस्कृतियों और भाषाओं के लोग रहते हैं। लेकिन फिर भी भारत में सबसे ज्यादा बोली जाने वाली बोली हिंदी भाषा ही है। वहीं हिंदी भाषा की उपयोगिता को बरकरार रखने के लिए प्रत्येक हिंदी दिवस पर कॉलेज, कार्यालय,और शैक्षणिक संस्थाओं में कविता, पाठ, निबंध आदि प्रतियोगिताओं का समायोजन किया जाता है ताकि हिंदी भाषा को सृजनात्मक रुप से सृजित किया जा सके और इसकी रचनात्मकता को बरकरार रखा जा सके। 2001 से 2011 के बीच की जनगणना के दौरान यहां खड़े देखे गए कि 2001 के दौरान देश में करीब 41.3 करोड़ लोग हिंदी भाषा बोलते थे लेकिन 2011 की जनगणना के अनुसार यहां खड़ा बढ़ते हुए 43.63 करोड़ हो गया है। हाल ही में इ कॉमर्स वेबसाइट जैसे अमेज़न इंडिया, फ्लिपकार्ट, OLX और Snapdeal ने भी हिंदी को तवज्जो दी है। वहीं सर्च इंजन गूगल ने भी हिंदी के तथ्यों को खोजने के लिए प्राथमिकता दी है।

Connect with Us! अपनी राय कमेंट्स में दें. ताजा ख़बरों के लिए हमें फॉलो करें. अगर आपको ये पोस्ट पसंद आई, तो इसे लाइक और शेयर करना न भूलें. Subscribe our Youtube Channel: AajKaReporter Follow us on: Facebook, Twitter, Instagram