जनता जनार्दन ने भी रखी मांग, आनंद कुमार जारी करें अब 26 छात्रों की सूची

सुपर-30 के फर्जी बेताज बादशाह आनंद कुमार के सच का खुलासा तो हो ही चुका है और वह कितने पानी में है यह बात भी दुनिया के सामने अब आ चुकी है। और जिस तरीके से वह गरीबों का मसीहा बनकर कर बैठे थे और उन्हें लूट रहे थे, अब उस सच्चाई से भी पर्दा उठ चुका है। दूसरी ओर आनंद कुमार की छवि पर उस वक्त ऐसा बदनुमा कलंक लग गया जब वह एक अपराधी को छुड़ाने थाने पहुंच गए। आनंद कुमार की पर्त-दर-पर्त सच्चाई खुलने के बाद जो लोग उन्हें मानते थे वही लोग आज यह मांग कर रहे हैं कि आनंद कुमार ने जिन बच्चों के  IIT-JEE में इस बार सफल होने का दावा किया था उन 26 बच्चों की लिस्ट जारी करें।

लोगों ने रखी सुपर-30 के संचालक आनंद कुमार से यह मांग – 

बिहार की जनता सुपर-30 के संचालक आनंद कुमार की सच्चाई जानने के बाद बौखला गई है और उन्हें आनंद कुमार के ऊपर अब तनिक भी विश्वास नहीं बचा है।

लोगों ने कहा है कि आनंद कुमार ने अब तक क्या किया और क्या नहीं किया और उनका एक अपराधी के साथ क्या संबंध है ? इसका हमसे कोई भी मतलब नहीं है। लोगों ने आनंद कुमार से यह मांग रखी है कि उन्हें केवल इस बात की पुख्ता जानकारी चाहिए जिसमें उन्होंने दावा किया था कि इस बार सुपर-30 से 26 बच्चों का चयन IIT में हुआ है। लोगों ने कहा कि उन्हें उन 26 बच्चों की लिस्ट चाहिए, लोगों ने यह भी कहा अगर 26 बच्चों का चयन इस बार IIT में हुआ है अौर उनकी लिस्ट आनंद कुमार के पास नहीं है तो वह इस बात को स्वीकार करें!

पटना यूनिवर्सिटी के अध्यक्ष ने कहा कंधे पर बैठाकर घुमाएंगे आनंद कुमार को

पटना यूनिवर्सिटी के छात्र संघ चुनाव में ABVP पैनल से जीत हासिल करने वाले छात्रसंघ अध्यक्ष दिव्यांशु भारद्वाज ने कल प्रेस कांफ्रेंस के दौरान कहा कि अगर आनंद कुमार के पास उन 26 बच्चों की लिस्ट है और वे उस लिस्ट को 3 घंटे के अंदर जारी कर देते हैं तो वह आनंद कुमार को अपने कंधे पर बैठाकर पूरे पटना में घुमाएंगे। और अगर माजरा कुछ और है तो आनंद कुमार सामने आकर सारी सच्चाई दुनिया को बताएं क्योंकि लोगों का उन पर अटूट भरोसा था।

गौरतलब है कि आनंद कुमार ने इस बार दावा करते हुए कहा था कि सुपर 30 से 26 बच्चों का चयन IIT में हुआ है लेकिन मीडिया के द्वारा जब उन 26 बच्चों की लिस्ट मांगी गई तो उन्होंने कोई भी जानकारी नहीं दी वहीं दूसरी ओर आनंद कुमार के सुपर 30 में पढ़ने वाले छात्रों ने ही अब उनके खिलाफ मोर्चा खोल दिया है जिसके कारण उन पर एक के बाद एक लगातार इल्जाम लगते चले जा रहे हैं और सफाई में बोलने के लिए आनंद के पास कुछ भी नहीं है। जबकि बिहार के लोग उन पर जिस तरीके से विश्वास करते थे उस कारण लोग भी अब यह जानना चाहते हैं कि आनंद कुमार की असलियत क्या है क्या वह झूठे दावे दुनिया के सामने पेश कर रहे थे या सच? और अगर 26 बच्चों के सेलेक्ट होने की बात सही है तो उस लिस्ट को वह अब जारी करें और अपने आपको साबित करें कि वह झूठे हैं या क्या ?

 

Connect with Us! अपनी राय कमेंट्स में दें. ताजा ख़बरों के लिए हमें फॉलो करें. अगर आपको ये पोस्ट पसंद आई, तो इसे लाइक और शेयर करना न भूलें. Subscribe our Youtube Channel: AajKaReporter Follow us on: Facebook, Twitter, Instagram