आखिर क्यों याद आई पीएम मोदी को प्रेमचंद के “हामिद “की ?

कल प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने उज्ज्वला योजना संवाद कार्यक्रम के दौरान हिंदी कथा सम्राट मुंशी प्रेमचंद की मशहूर कहानी ईदगाह के हामिद किरदार को याद किया | उन्होंने बताया कि हामिद के चरित्र ने ही उन्हें उज्ज्वला योजना शुरू करने हेतु प्रेरित किया जिसके अंतरगर्त अब तक 4 करोड़ परिवारों को लाभ हुआ है |

सुनाई कहानी हामिद की

“मुंशी प्रेमचंद ने यह कहानी 1933 में लिखी थी और आज यहाँ मौजूद माताओं -बहनो में से कइयों ने इसे अपने विद्यालय में पढ़ा होगा | इस कहानी का मुख्य किरदार था बालक हामिद जो मेले में मिठाई न खाकर अपनी दादी अमीना के लिए एक चिंता खरीद के ले आता है ताकि खाना बनाते वक़्त उसकी दादी के हाथ जले या उनमें चोट न लग जाए | अगर हामिद कर सकता है तो हम क्यों नहीं ?” नरेंद्र मोदी ने हामिद की कहानी सुनाते यह बात कही |

उन्होंने कहा कि मुझे यह कहानी आज भी प्रेरित करती है कि जब एक बालक कर सकता है तो मैं प्रधानमंत्री होते हुए क्यों नहीं ? परन्तु यह इस देश का दुर्भाग्य रहा है कि पहले छह दशकों में इस देश को 10 करोड़ गैस कनेक्शन दिए जबकि हमारी सरकार ने अकेले 4 साल में 13 करोड़ कनेक्शन दिए है | पीएम मोदी ने बताया कि उन्होंने अपनी माता को चूल्हे में लकड़ी व उपले के गैस से झूझते देखा है जिससे उन्हें पीड़ा होती थी और जहाँ अभी प्रत्येक 100 परिवारों में से 81 के पास गैस कनेक्शन है वहीँ भविष्य में हम इसे शत प्रतिशत करने के लिए प्रतिबद्ध है | हमारी सरकार देश की महिलाओ को स्वस्त इर्धन देने के लिए संकल्पित है | बता दें कि अभी हाल में शुरू हुए ग्राम स्वराज योजना की शुरुआत में 11 लाख परिवारों को एक दिन में ही गैस कनेक्शन दिया गया है | उज्ज्वला योजना की शुरुआत 2016 में उत्तर प्रदेश के बलिया से प्रधानमंत्री मोदी ने की थी |

Connect with Us! अपनी राय कमेंट्स में दें. ताजा ख़बरों के लिए हमें फॉलो करें. अगर आपको ये पोस्ट पसंद आई, तो इसे लाइक और शेयर करना न भूलें. Subscribe our Youtube Channel: AajKaReporter Follow us on: Facebook, Twitter, Instagram