आज देश भर में सरकार बनाएगी जीएसटी दिवस

आज सरकार जीएसटी की पहली सालगिरह मनाने की तैयारी कर रही है। इसके लिए 1 जुलाई यानी आज सरकार दिल्ली में अम्बेडकर भवन में एक बड़ा कार्यक्रम आयोजित करके जीएसटी दिवस मनाएगी। केंद्रीय मंत्री अरुण जेटली वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से इस कार्यक्रम को संबोधित करेंगे।

इस कार्यक्रम में उद्योग जगत के प्रतिनिधियों के साथ-साथ  देखभाल करने वाले व्यवसायी और कर अधिकारी वित्त मंत्रालय के मामलों की देखभाल कर रहे पीयूष गोयल भी भाग लेंगे। आजादी के बाद सरकार जीएसटी को देश में सबसे बड़ा कर सुधार बता रही है। 30 जून 2017 की आधी रात को संसद के केंद्रीय हॉल में आयोजित भव्य समारोह में तत्कालीन राष्ट्रपति प्रणव मुखर्जी और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने इसे शुरू किया था।

इस तरह जीएसटी 1 जुलाई 2017 देश में आया और माल और सेवाओं के आंदोलन के लिए एक ही बाजार बन गया। वित्त सचिव हस्मुख आदित्य ने शनिवार को कहा कि जीएसटी सुचारू रूप से काम करने के अपने अधिकार में एक वर्ष में काम करने को आ चूका है। उन्होंने यह भी बताया कि सरकार इससे हर महीने 1 लाख करोड़ रुपये का राजस्व प्राप्त होने की उम्मीद है। हालांकि उन्होंने इस बात से इनकार किया है कि 28 प्रतिशत के स्लैब में बड़े बदलाव की गुंजाइश है। इसके पीछे उनकी दलील थी कि 28 पर्सेंट के स्लैब में जो चीजें हैं उनसे सरकार की आय का बड़ा हिस्सा आता है।

जीएसटी के पहले वर्ष में राजस्व प्राप्ति संतोषजनक रही। हालांकि राज्यों के राजस्व में हुए नुकसान की भरपाई के लिए 47,843 करोड़ रुपये दिए गए। पिछले वित्त वर्ष में अगस्त 2017 से मार्च 2018 तक जीएसटी राजस्व कुल 7.17 लाख करोड़ रुपये रहा। जीएसटी में राज्यों को होने वाले घाटे की भरपाई के लिए बीड़ी सिगरेट जैसी वस्तुओं पर सेस भी लगाया गया है। इससे वर्ष 2018-19 के बजट में 90 हज़ार करोड़ जुटने की उम्मीद है|

Connect with Us! अपनी राय कमेंट्स में दें. ताजा ख़बरों के लिए हमें फॉलो करें. अगर आपको ये पोस्ट पसंद आई, तो इसे लाइक और शेयर करना न भूलें. Subscribe our Youtube Channel: AajKaReporter Follow us on: Facebook, Twitter, Instagram