इन लोगों ने लिखे थे स्वतंत्रता आंदोलन के लिए नारे

2018 में भारतवासी देश की आजादी की 72वीं वर्षगांठ को खूब धूमधाम से मनाने जा रहे हैं क्योंकि जिन वीर योद्धाओं ने और क्रांतिकारियों ने अपने खून को पानी की तरह के बाहर दिया उनकी फिक्र करने वाले आज भी मौजूद है लेकिन जिन क्रांतिकारियों ने अंग्रेजों को भारत को छोड़ने पर मजबूर कर दिया और जिनके नारों में इतनी ताकत थी कि उसे सुनने के बाद अंग्रेजों के खून खौल उठते थे क्या आप जानते हैं कि उन नारों को किसने लिखा ? हो सकता है आप जानते हो लेकिन आज की इस रिपोर्ट में आज हम आपको रूबरू करवाएंगे भारतीय क्रांतिकारियों के उन नारों से जिसकी वजह से क्रांति का एक नया रूप सामने उभर कर आया जिसकी वजह से अंग्रेजों को भारत से खदेड़ने में कई लोग शामिल हुए।

वीर योद्धाओं में थी ललक – 

अपने देश के लिए मर मिटने की ललक जिन क्रांतिकारियों में थी उनके पास लिखने की भी ऐसी कला थी कि जिसकी वजह से लोग चार पंक्तियां पढ़ने के बाद अपने देश के लिए मर मिटने को भी तैयार हो जाते थे हालांकि इसे लिखने की कला कहा जा सकता है लेकिन इससे पहले देशभक्ति की भावना का होना भी बहुत जरूरी होगा क्योंकि बिना ऐसी भावना के शब्दों का आगमन पन्नों पर नहीं होता क्रांतिकारियों ने अपने दिलों के जज्बात को पन्नों पर उकेरा था जिसकी वजह से उनकी पंक्तियों में इतनी ताकत थी कि एक लाइन की वजह से 10 लोग साथ आने को तैयार हो जाते थे।

तो चलिए जानते हैं स्वतंत्रता आंदोलन में महत्वपूर्ण भूमिका निभाने वाले कुछ चर्चित और नामचीन नारों के बारे में –

1. अंग्रेजों भारत छोड़ो – महात्मा गांधी 

2. मेरे सिर पर लाठी का एक-एक प्रहार, अंग्रेजी शासन के ताबूत की कील साबित होगा – लाला लाजपत राय 

3. वंदे मातरम- बंकिमचंद्र चटर्जी 

4. तुम मुझे खून दो, मैं तुम्हें आजादी दूंगा – नेताजी सुभाष चंद्र बोस 

5. इंकलाब जिंदाबाद – भगत सिंह 

6. जन-गण-मन अधिनायक जय हे – रवींद्र नाथ टैगोर 

7. स्वराज मेरा जन्मसिद्ध अधिकार है, और मैं इसे लेकर रहूंगा – बाल गंगाधर तिलक 

8. दुश्मन की गोलियों का हम सामना करेंगे, आजाद ही रहे हैं, आजाद ही रहेंगे – चंद्र शेखर आजाद 

9. सारे जहां से अच्‍छा हिन्‍दोस्‍तां हमारा – अल्‍लामा इकबाल 

10. सरफरोशी की तमन्ना, अब हमारे दिल में है –रामप्रसाद बिस्मिल 

11. जय हिंद – सुभाष चंद्र बोस 

12. जय जवान, जय किसान – लाल बहादुर शास्‍त्री 

13. आराम हराम है – जवाहरलाल नेहरू 

14. सत्यमेव जयते – पंडित मदनमोहन मालवीय 

15. करो या मरो – महात्मा गांधी 

16. भारत माता की जय -महात्मा गांधी 

17. जय जवान जय किसान – लाल बहादुर शास्त्री 

18. साइमन कमीशन वापस जाओ –लाल लाजपत राय

Connect with Us! अपनी राय कमेंट्स में दें. ताजा ख़बरों के लिए हमें फॉलो करें. अगर आपको ये पोस्ट पसंद आई, तो इसे लाइक और शेयर करना न भूलें. Subscribe our Youtube Channel: AajKaReporter Follow us on: Facebook, Twitter, Instagram