पुलिस वालों ने अगर नहीं कम किया मोटापा, तो जा सकती है उनकी नौकरी

Karnatka Police
Karnatka Police

राह चलते या पुलिस दफ्तरों में हमने अक्सर ऐसे इंसानों को देखा है जो खाकी वर्दी में रहते हैं लेकिन उन का मोटापा इतना ज्यादा होता है या दूसरे शब्दों में कह लीजिए तो उनके पेट का आकार कुछ ऐसा होता है जैसे मिट्टी का घड़ा। जी हां हम बात कर रहे हैं पुलिस वालों की और अगर बात की जाए उन्हें विश्राम की मुद्रा में खड़े होकर अपने जूतों को देखने की तो यह असंभव काम होगा पुलिस वालों के लिए । लेकिन अब एक ऐसा फरमान जारी कर दिया गया है कि अगर पुलिस वालों ने अपना मोटापा नहीं कम किया तो उन्हें अपनी नौकरी से हाथ धोना पड़ सकता है।

कर्नाटक पुलिस को जारी हुआ है ये आदेश – 

कर्नाटक स्टेट रिज़र्व पुलिस ने अपने प्लाटून कमांडर से कहा है कि वह अपने 14 हजार जवानों में से उन जवानों की पहचान करें जिनका मोटापा बढ़ा हुआ है या तो उनके पेट बाहर निकले हैं।  KSRP का कहना है कि इन जवानों की पहचान करके इनका पूरा बायोडाटा निकाला जाए और इन्हें 3 महीने की मोहलत दी जाए ताकि यह अपना मोटापा और अपने पेट का आकार कम कर सकें। साथी साथ कुछ आदेश में यह भी कहा गया है कि 3 महीने के बाद इन लोगों के फिटनेस और मोटापे की जांच होगी अगर यह उसमें खरे साबित नहीं होते हैं तो इनके ऊपर कार्यवाही की जाएगी और आवश्यकता पड़ने पर इन्हें बर्खास्त भी किया जाएगा। केएसआरपी के अतिरिक्त महानिदेशक भास्कर राव ने कहा कि इसके पीछे सबसे बड़ी वजह यह है कि पिछले 18 महीनों में हमारी करीब 153 पुलिसकर्मियों की मौत हो गई है जिनमें से 24 मौत सड़क दुर्घटना में हुई है 9 पुलिसकर्मियों ने आत्महत्या कर ली जबकि बाकी की सभी मौतें मधुमेह जैसी गंभीर बीमारियों की वजह से ही हुई है जिसे गंभीरता से देखते हुए या निर्णय लिया जा रहा है ताकि पुलिस जवान अपने आप को स्वस्थ रखें क्योंकि यह अपने स्वास्थ्य के प्रति बिल्कुल भी सजग नहीं है और लापरवाही बरतने के चलते इन्हें मधुमेह जैसी गंभीर बीमारियों ने घेर रखा है।

ये जिम्मेदारी प्लाटून कमांडर को इसलिए दी गई है क्योंकि एक प्लाटून कमांडर के अंडर में 25  जवान होते हैं और अगर सभी प्लाटून कमांडर अपने जवानों को फिट रहने के लिए बोलेंगे तो निश्चित रूप से इसमें बड़ा बदलाव आसानी से देखने को मिल सकता है। दूसरी ओर नौकरी बचाने की जद्दोजहद में जवान अपने आप को स्वस्थ भी रखेंगे और अपने विभाग को भी प्रत्येक परिस्थिति में साथ देने के लिए उपस्थित रहेंगे। गौरतलब है कि कुछ दिनों पहले केएसआरपी के अतिरिक्त महानिदेशक भास्कर राव ने कहा था कि, “छह महीने पहले जवानों की शारीरिक जांच की गई थी, जिसमें उन्हें मधुमेह और वजन की समस्या से होने वाली बीमारी का पता चला है। अगर वे अपने स्वास्थ्य पर ध्यान नहीं देते हैं और फिट नहीं होते हैं तो उन्हें बर्खास्त कर दिया जाएगा।”

Connect with Us! अपनी राय कमेंट्स में दें. ताजा ख़बरों के लिए हमें फॉलो करें. अगर आपको ये पोस्ट पसंद आई, तो इसे लाइक और शेयर करना न भूलें. Subscribe our Youtube Channel: AajKaReporter Follow us on: Facebook, Twitter, Instagram