भारत को आँख दिखा चीन संग चला नेपाल

भारत देश को दगा देने वाले पड़ोसी देशों की लिस्ट में अब नेपाल भी शामिल होने के लिए तैयार हो चुका है जी हां जिस नेपाल की भूकंप में मदद करने के लिए भारत की ओर से सैन्य सेवाएं मुहैया कराई दी गई साथ ही साथ कुछ भयानक आपदा में फंसे लोगों को खाद्य सामग्री भी उपलब्ध कराई गई लेकिन वही नेपाल अब भारत को आंख दिखाकर चीन के साथ नई दोस्ती करने जा रहा है।

चीन के साथ सैन्य अभ्यास करेगा भारत – 

हाल ही में भारत सरकार के द्वारा पुणे में भीमस्टेक के पहले सैन्य अभ्यास का आयोजन किया जा रहा था जिसमें नेपाल को भी आमंत्रित किया गया था लेकिन भारत में होने वाले सैन्य अभ्यास में हिस्सा लेने से मना करने के बाद नेपाल ने चीन के साथ जाने को अपनी रजामंदी जताई है। BIMSTEC यानि कि (Bay of Bengal Initiative for Muti-Sectoral Technical and Economic Cooperation)  के पहले सैन्य अभ्यास में हिस्सा लेने से मना करने के बाद पड़ोसी देश नेपाल की सेना अब नए दोस्त चीन के साथ 12 दिनों तक सैन्य अभ्यास करेगी। इस बात की जानकारी सोमवार को नेपाल के सैन्य प्रवक्ता ने दी । नेपाल के सैन्य प्रवक्ता ब्रिगेडियर जनरल गोकुल भंडारी ने मीडिया से बातचीत में बताया कि चीन के साथ यह दूसरा सैन्य अभ्यास (सागरमाथा फ्रेंडशिप-2) है, जो चेंगदू में 17 सितंबर से 28 सितंबर तक चलेगा। गोकुल भंडारी ने बताया कि इस इस सैन्य अभ्यास का प्रमुख बिंदु आतंक विरोधी अभ्यास रहेगा।

खबरों के मुताबिक बताया जा रहा है कि नेपाल की चीन के साथ बढ़ रही दोस्ती से भारत नाखुश है और केंद्र सरकार इसके बारे में जल्दी ही मीटिंग ही बुलाएगी। वहीं एक ओर देखा जाए तो भारत से मिल रही मदद को भी दरकिनार रखकर नेपाल ने चीन के साथ दोस्ती के लिए कदम बढ़ाया है, जो कि भारत के लिए एक चिंता का विषय भी बन सकता है। क्योंकि चीन नेपाल के साथ मिलकर भारत के हिस्सों में सैन्य विरोधी गतिविधियां कर सकता है।

Connect with Us! अपनी राय कमेंट्स में दें. ताजा ख़बरों के लिए हमें फॉलो करें. अगर आपको ये पोस्ट पसंद आई, तो इसे लाइक और शेयर करना न भूलें. Subscribe our Youtube Channel: AajKaReporter Follow us on: Facebook, Twitter, Instagram