“भारत दुनिया की छठी सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था”- अंतरराष्ट्रीय मुद्रा कोष(आईएमएफ)

अप्रैल 2018 में जारी हुए अंतरराष्ट्रीय मुद्रा कोष (आईएमएफ) के वर्ल्ड इकॉनोमिक आउटलुक के मुताबिक, भारत का सकल घरेलू उत्पाद (जीडीपी) 2017 में 2.6 ट्रिलियन था। जिसके बाद भारत अब फ्रांस को पीछे छोड़ दुनिया की छठी सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था बना चुका है। भारत जो पांच अर्थव्यवस्था ऊपर है वो हैं- अमेरिका, चीन, जापान, जर्मनी और ब्रिटेन। आंतरराष्ट्रीय मुद्रा कोष का कहना है, कि सकल घरेलू उत्पाद के अनुपात में भारत पर ”बहुत ज्यादा कर्ज है लेकिन वह ”सही नीतियों के माध्यम से इसे कम करने का प्रयास कर रहा है। आईएमएफ के वित्तीय मामलों के विभाग के उपनिदेशक अब्देल सेन्हादजी का कहना है, कि वित्त वर्ष 2017 में भारत सरकार का कर्ज सकल घरेलू उत्पाद ( जीडीपी ) का 70 प्रतिशत रहा। उन्होंने कहा, ”अधिकारी सही नीतियों के माध्यम से इस कर्ज को मध्यम स्तर पर लाने का प्रयास कर रहे हैं। आईएमएफ के शीर्ष अधिकारी का कहना है, कि भारत कर्ज के अनुपात को 40 प्रतिशत के मध्यम स्तर पर लाने का प्रयास कर रहा है। आंतरराष्ट्रीय मुद्रा कोष (आईएमएफ) के अनुसार अगले साल तक भारत दुनिया की पांचवीं सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था बन सकता है और तेज विकास के दम पर भारत 2022 तक जर्मनी को पीछे छोड़कर दुनिया की चौथी बड़ी अर्थव्यवस्था भी बन सकता हैं। आईएमएफ ने 2017 और 2022 के लि‍ए सकल घरेलू उत्पाद (जीडीपी) पर देशों की रैंकिंग की है।

इस साल यूरोपियन यूनियन से बाहर निकलने के फैसले से ब्रिटेन की अर्थव्यवस्था पर नकारात्मक प्रभाव पड़ा है। इससे ब्रिटेन अगले साल तक छठे स्थान पर पहुंच जाएगा। भारत 2.45 लाख करोड़ डॉलर (करीब 157 लाख करोड़ रुपए) की जीडीपी के साथ छठे स्थान पर है। आईएमएफ के डिप्टी एमडी ताओ झांग ने कहा, ‘हमारे ताजा ग्लोबल इकोनॉमिक आउटलुक के अनुसार 2018 में अमेरिका की ग्रोथ अगले साल 2.3% से 2.5% पर पहुंच जाएगी। आईएमएफ का मानना है कि भारतीय अर्थव्यवस्था फिलहाल खुद को रिकवर कर रही है। दुनियाभर की अर्थव्यवस्थाओं की स्थिति को लेकर अंतरराष्ट्रीय मुद्रा कोष (आईएमएफ) ने इस सप्ताह एक ताजा रिपोर्ट पेश की है। इस रिपोर्ट में भारतीय अर्थव्यवस्था को पूरी दुनिया में तेजी से बढ़ती अर्थव्यस्था बताया गया है। रिपोर्ट में कहा गया है कि यदि भारतीय अर्थव्यवस्था इसी गति से बढ़ती रही तो 2022 में यह जमर्नी को पछाडक़र दुनिया की चौथी सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था बन जाएगा। आईएमएफ ने यह रिपोर्अ सकल घरेलू उत्पाद (जीडीपी) के नॉमिनल टम्र्स के आधार पर पेश की है। आईएमएफ ने इस रिपोर्ट में भारत अपनी अर्थव्यवस्था के विकास की मौजूदा गति के आधार पर अगले पांच सालों में दुनिया की पांच बड़ी अर्थव्यवस्थाओं में शामिल हो जाएगा। दिलचस्प बात यह है कि इकनॉमिक थिंक टैंक आर्थिक और व्यापारिक अनुसंधान केंद्र (सीईबीआर) ने दिसंबर 2011 में भविष्यवाणी की थी कि भारत साल 2020 में भारत दुनिया की 5वीं बड़ी अर्थव्यवस्था हो जाएगा, लेकिन इसने यह महत्वपूर्ण पड़ाव बहुत जल्दी पार कर लिया।

भारत की आबादी अभी लगभग सवा अरब (1.25 अरब) है, जो अगले दो दशक में बढ़कर एक अरब साठ करोड़ (1.6 अरब) तक पहुँच जाएगी और इससे जो बाज़ार बनेगा और उससे अर्थव्यवस्था का आकार भी बढ़ेगा।

Connect with Us! अपनी राय कमेंट्स में दें. ताजा ख़बरों के लिए हमें फॉलो करें. अगर आपको ये पोस्ट पसंद आई, तो इसे लाइक और शेयर करना न भूलें. Subscribe our Youtube Channel: AajKaReporter Follow us on: Facebook, Twitter, Instagram