लश्कर-ए-तैयबा का भारतीय सेना के खिलाफ “ऑनलाइन मैगज़ीन” प्रोपेगंडा

आतंकवादी संगठन लश्कर-ए-तैयबा ने वाईथ नामक एक ऑनलाइन पत्रिका लॉन्च की है। इस पत्रिका के माध्यम से आतंकवादियों ने भारतीय सेना को चुनौती दी है, जो जम्मू-कश्मीर में दिन और रात आतंकवादियों का मुक़ाबला कर उन्हें ढेर कर रहे हैं| सूचित कर दें कि यह वही आतंकवादी संगठन है जिसने मुंबई हमलों को अंजाम दिया था|

इस पत्रिका का जिक्र करते हुए आतंकवादियों से कहा गया है कि भारतीय सुरक्षा बलों के लिए कश्मीर में वर्ष 2018 मुश्किल होगा। ऑनलाइन उपलब्ध इस पत्रिका में लश्कर-ए-तैयबा के प्रवक्ता अब्दुल्ला गजनवी के एक साक्षात्कार को प्रकाशित किया गया है जिसमें गजनवी ने कहा है कि उनका संगठन आम आदमी और कश्मीर के संघर्ष का समर्थन करता है।

उन्होंने यह भी कहा है कि कश्मीर का समर्थन पाकिस्तान का नैतिक और कानूनी दायित्व है। यह पत्रिका अंग्रेजी में उपलब्ध है। महत्वपूर्ण बात यह है कि भारतीय सेना के आतंकवादियों के खिलाफ कश्मीर घाटी में ऑपरेशन ऑल-आउट चल रहा है। इसे पहली बार 2017 में शुरू  किया गया था। इसके दौरान सेना द्वारा कई आतंकवादी मारे गए थे।

बता दें कि शुक्रवार को सुरक्षा बलों ने इस्लामिक राज्य जम्मू-कश्मीर (आईएसजेके) के दाता दाऊद अहमद सोफी को नाउशेरा गांव में मुठभेड़ में उनके तीन सहयोगियों के साथ मार डाला और अब 21 आतंकवादियों का नाम सेना की हिट लिस्ट में है|

जिस तरह से टेक्नोलॉजी के माध्यम से टेररिज्म का संचार हो रहा है उससे इंटरनेट पर ज़िन्दगी बीतने वाला एक किशोर व युवा के भोलेपन और अबोध मस्तिष्क पर इसका विकृत असर पड़ना लाज़मी है साथ ही सेना और सरकार को ज़रुरत है कि वह जल-थल-वायु की तरह ही इंटरनेट पर शुरू किये जा रहे इस प्रोपेगंडा वार यानी साइबर वॉर के लिए कमर कैसे क्योंकि वहां से बैठे जब आतंकी तैयार किये जा सकते है तो यहाँ से बैठे सिपाही क्यों नहीं ?

Connect with Us! अपनी राय कमेंट्स में दें. ताजा ख़बरों के लिए हमें फॉलो करें. अगर आपको ये पोस्ट पसंद आई, तो इसे लाइक और शेयर करना न भूलें. Subscribe our Youtube Channel: AajKaReporter Follow us on: Facebook, Twitter, Instagram