विश्व पर्यावरण दिवस पर राजनैतिक अस्थिरता झेल रहे तमिलनाडु ने देश के सामने रखा धरती रक्षक उदाहरण

आज विश्व पर्यावरण दिवस है| आज के दिन शपथ ली जाती है ,वृक्षारोपण होता है , कार्यक्रम होता है सिर्फ दिखावे की तर्ज़ पर न कि ज़मीन पर उतर कर कोई बदलाव लाया जाता है| यदि होता भी तो वह लोग एडवरटाइजिंग नहीं करते बल्कि एक्शन करते है| आज के दिन राजनैतिक झामलझोल देख चुके दक्षिणी राज्य तमिलनाडु ने देश को एक मिसाल बनकर दिखाया है|

जब से अम्मा यानी दिवंगत पूर्व मुख्यमंत्री जयललिता की मृत्यु हुई है तबसे सत्ता पर काबिज़ उनकी पार्टी एआईडीएमके में भूचाल आया है| पहले उनकी करीबी रही शशिकला की करप्शन के मामले में गिरफ्तारी और फिर सीएम बने ओ पनीरसेल्वम का इस्तीफा जिसका कारण बना मौजूदा सीएम पालनस्वामी के साथ तकरार जिसमें केंद्र सरकार ने मध्यस्थता कर के अपने एजेंडे पर वहां सरकार को चलवाने को कहा जिसके बाद से रजनीकांत हो कमल हासन या फिर शशिकला के भतीजे दिनाकरन सभी नयी नयी पार्टी बनाकर पहले से कमज़ोर एआईडीएमके और सत्ता में वापस लौटने को बेताब स्टालिन वाली डीएमके के बीच समर शुरू हो चुका है|

इस स्वार्थ भरी क्षेत्रीय राजनीति से ऊपर जाकर तमिलनाडु सरकार ने अपने राज्य की धरती को बचने के लिए एक बेहद ही कड़ा कदम उठाया है जिसके लिए बातें तो अर्सो से होती रही लेकिन होता कुछ था भी तो तनिक भर के लिए| सबको सबक देते हुए तमिलनाडु सरकार ने अजैविक प्लास्टिक से बानी चीज़ों पर प्रतिबन्ध लगाने का निर्णय लिया है सरकार ने भावी पीढ़ी को प्लास्टिक से मुक्ति देने के साथ-साथ धरती की रक्षा हेतु इस कदम को उठाया है| मुख्यमंत्री के. पलानीस्वामी ने आज विश्व पर्यावरण दिवस के मौके पर विधानसभा में यह घोषणा की।

पलानीस्वामी ने कहा कि तत्कालीन मुख्यमंत्री जयललिता को भी यही इच्छा थी जिसके लिए उन्होंने एक विशेष पैनल का गठन भी किया था और उसे कि सुझाव के बाद इस फैसले पर कैबिनेट ने मुहर लगा दी है | पैनल के अनुसार हमें जैविक उत्पादों से बानी चीज़ों का इस्तेमाल करना होगा जैसे केले के पत्ते से बने बैग आदि |

बता दे कि सरकार की भले ही स्टारलाइट कॉपर प्लांट बंद करवाने के प्रकरण में हुई हिंसक कार्यवाही को लेकर आलोचना हुई हो लेकिन लोगों के पर्यावरण और भावी पीढ़ी को सुरक्षित परिवेश देने के प्रति प्रतिबद्धता और कर्मशीलता बिलकुल ही सराहनीय है जिससे अन्य राज्यों की भी सबक लेने की आवश्यकता है वरना धरती को बचाना हर सेकंड मुश्किल होता जायेगा |

Connect with Us! अपनी राय कमेंट्स में दें. ताजा ख़बरों के लिए हमें फॉलो करें. अगर आपको ये पोस्ट पसंद आई, तो इसे लाइक और शेयर करना न भूलें. Subscribe our Youtube Channel: AajKaReporter Follow us on: Facebook, Twitter, Instagram