फ़ोन में अपने आप जुड़ रहा आधार हेल्पलाइन नंबर, यूआईडीआई ने जिम्मेदारी से पल्ला झाड़ा

देश में हजारों स्मार्टफोन उपयोगकर्ता आज चौंक गए, जब उन्हें पता चला कि यूआईडीएआई का टोल-फ्री हेल्पलाइन नंबर उनकी फोन बुक में सेव हो गया है। किसी उपयोगकर्ता ने सेव किये गए नंबर की स्क्रीन शॉटपर ट्वीट करते हुए कहा, ‘यह एक मजाक नहीं है। यह मेरे फोन में भी हुआ है। मैंने इस नंबर को सेव नहीं किया है। अपने फोन को जल्दी से जांचें, मुझे चिंता है कि कहीं कुछ गड़बड़ चल रही है”। ‘एक अन्य उपयोगकर्ता ने ट्वीट किया,’ यह नंबर मेरी फोन बुक में कैसे आया? यदि आप ऐसा कर सकते हैं तो आप किसी की गतिविधियों की निगरानी भी कर सकते हैं”|

हज़ारो की तादाद में लोगों ने यूआईडीएआई को ट्वीट में मेंशन करना शुरू कर दिया जिसके बाद उसको जवाब देने की नौबत आ गई लेकिन उसने बात का खंडन करते हुए किसी भी तरह की ज़िम्मेदारी से पल्ला झाड़ लिया|

भारतीय विशिष्ट पहचान प्राधिकरण (यूआईडीएआई) ने हालांकि कहा कि कुछ निहित हितों के कारण ‘जानबूझकर’ जनता में भ्रम फैलाने की कोशिश की जा रही है और प्राधिकरण ने स्पष्ट किया कि उसने किसी निमार्ता या दूरसंचार सेवा प्रदाता से ऐसी सुविधा प्रदान करने के लिए नहीं कहा है।

ट्राई चेयरमैन आर ऐ शर्मा जी का आधार डाटा लीक कर के उनकी निजी जानकारियां ट्वीट करने वाले फ्रांसीसी हैकर एलियट एल्डरसन ने यूआईडीएआई से ट्विटर पर पूछा, “कई लोग, जिनके अलग-अलग सेवा प्रदाता है, चाहे उनके पास आधार कार्ड हो या ना हो या उन्होंने आधार एप इंस्टाल किया है या नहीं किया है। उन्होंने अपने फोन में नोटिस किया होगा कि बिना अपने कांटैक्ट लिस्ट में जोड़े आधार का हेल्पलाइन नंबर क्यों आ रहा है। क्या आप इसकी सफाई दे सकते हैं, क्यों?”

खैर इसके बाद बहस का दौर चल पड़ा ओर सभी ने फ़ोन के स्नेप देते हुए अपने तर्क-वितर्क साझा किये जिसके बाद यूआईडीआई ने एक बार में सभी प्रमुख मीडिया संगठनों को मेंशन करते हुए अपनी अंतिम सफाई दी और मामले पर एक तरह का विराम लगाया|

यूआईडीएआई का कहना है कि एंड्रायड फोन्स में जो आधार हेल्पलाइन नंबर दिख रहा है, वह पुराना है और वैध नहीं है। आधिकारिक बयान में कहा गया, ‘यूआईडीएआई का वैध टोल फ्री हेल्पलाइन नंबर 1947 है जो पिछले दो सालों से ज्यादा समय से चल रहा है।’

जिस तरह आधार को लेकर रोज़ -रोज़ नए काण्ड हो रहे है उससे इसके ऊपर यकीन प्रतिदिन मुश्किल होता जा रहा है| आधार वास्तव में आधारहीन हो चला है जिसे जब चाहा लीक कर दिया और हटा भी दिया|

Connect with Us! अपनी राय कमेंट्स में दें. ताजा ख़बरों के लिए हमें फॉलो करें. अगर आपको ये पोस्ट पसंद आई, तो इसे लाइक और शेयर करना न भूलें. Subscribe our Youtube Channel: AajKaReporter Follow us on: Facebook, Twitter, Instagram