आखिर क्यों शक किया जा रहा है मुख्मंत्री नीतीश कुमार के कार्यकाल पर?

बिहार में आए दिन दंगा फसाद और अपराधियों का बोलबाला रहता है लेकिन, इसके चलते बिहार में ऐसा कोई प्रमुख कदम नहीं उठाया जा रहा है जो इन सबको रंगे हाथों पकड़ सके और इनकी दादागिरी ख़तम कर सके। इसी के चलते हैं विपक्ष दल की पार्टियां बार बार नीतीश कुमार को गिरी में ले रही है और उन पर सवाल उठा रही हैं कि वह मुख्यमंत्री के नाम पर क्या कदम उठा रहे हैं ?

आखिर क्यों उठा जाए रहे हैं नीतीश के काम पर सवाल!

दरअसल, खगड़िया में देर रात अपराधियों और पुलिस के बीच हुई मुठभेड़ में पसराहा थाना के दरोगा आशीष कुमार शहीद हो गये। वहीं कई पुलिस वाले घायल हैं जिनका इलाज अभी भागलपुर मेडिकल कॉलज में चल रहा है। हालांकि पुलिस ने इस एनकाउंटर में दो अपराधियों को मार गिराया है। खगड़िया के ऊपर हमले के बाद पोस्टल की पार्टियां लगातार नीतीश कुमार को विवादों के घेरे में लेने की कोशिश में जुटी है। इसी के चलते आरजेडी प्रवक्ता शक्ति यादव ने नीतीश कुमार पर हमला बोलते हुए कहा कि मुख्यमंत्री की अपनी कोई साख नहीं बची है, इनकी सरकार में अपराधियों का बोलबाला है। शक्ति यादव ने कहा कि बिहार में अपराधियों का बोलबाला है। स्थिति यह है कि मुख्यमंत्री भी पुलिस के सामने नतमस्तक हो गए हैं। मुख्यमंत्री की अपनी कोई साख नहीं बची। पुलिसकर्मियों के सामने में गिड़गिड़ा रहे हैं कि कानून-व्यवस्था सुधारें। शक्ति यादव ने कहा कि अब तो पुलिस वाले भी सुरक्षित नहीं है ऐसे में आम लोगों की हालत समझा सकती है।

अब इस मुद्दे के बाद या तो साफ पता चल रहा है कि नीतीश की परेशानियां इतनी जल्दी खत्म नहीं होने वाली है। अब देखना यह है कि नीतीश विपक्ष को मुंहतोड़ जवाब देते हुए इस मामले पर क्या कदम उठाते हैं।

Connect with Us! अपनी राय कमेंट्स में दें. ताजा ख़बरों के लिए हमें फॉलो करें. अगर आपको ये पोस्ट पसंद आई, तो इसे लाइक और शेयर करना न भूलें. Subscribe our Youtube Channel: AajKaReporter Follow us on: Facebook, Twitter, Instagram