आखिर मुख्यमंत्री नीतीश कुमार से चिराग पासवान नाराज़गी का कारण क्या था ?

 

लो.ज.पा के अध्यक्ष रामविलास पासवान अपनी पॉलिटिक्स की भाग दौड़ अपने सुपुत्र चिराग पासवान के हाथों में सोपना चाहते है, लेकिन मुसीबत की बात तो दरअसल यह है कि चिराग के कथन के अनुसार रामविलास पासवान खुद बचाव की प्रक्रिया में आ रहे हैं।

बीते हुए कुछ दिनों में चिराग पासवान बार-बार माननीय मुख्यमंत्री नीतीश कुमार को डंके की चोट पर रख कर बयान जारी किये जा रहे थे। इससे पहले चिराग ने यह कथन भी दिया था कि तेजस्वी और वो युवा पीढ़ी है और साथ मिल कर दोनों एक साथ बहेतर काम कर सकते हैं। चिराग के इस वाक्य ने राम विलास पासवान, उनके छोटे भाई एवं नीतीश जी के मंत्रीमंडल में मंत्री पशुपति पारस भी चिंतित थे।

चिराग पासवान की नाराजगी का असली कारण नीतीश कुमार की पोलिटिकल पार्टी में शामिल हुए नए सांसदीय छेत्र के वरिष्ठ नेता नरेन्द्र सिंह और उनके 2 पुत्र थे। नरेन्द्र सिंह के हर बयान में चिराग पासवान का जिक्र होता है जो उन्हें निंदनीय लगता है। हाल ही में जब – जब चिराग पासवान ने अपने संसदीय छेत्र का दौरा किया उनके समर्थकों से नरेन्द्र सिंह और उनके बेटो  की पूर्णतह हमेशा शिकायतें ही मिली हैं। परिणामत: चिराग पासवान ने नीतीश कुमार के विरुद्ध बयान देना भी शुरू कर दिया।

रामविलास पासवान ने बीच का रास्ता निकालने के लिये गुरुवार शाम को जनता दल यूनाइटेड (जे० डी० यू०) के राष्ट्रीय प्रवक्ता के० सी० त्यागी को अपने घर चाय पीने बुलाया साथ ही साथ चिराग ने अपने घर कुछ मीडिया वाले भी बुलाये और उन्हें नीतीश की प्रशंसा में कुछ कथन दिए। माना जा रहा है कि फिलहाल सुलह समझौता अवश्य हो गया हो परंतु अगले चुनाव में चिराग के लिए जमुई सीट से जीतना आसान नही होगा।

Connect with Us! अपनी राय कमेंट्स में दें. ताजा ख़बरों के लिए हमें फॉलो करें. अगर आपको ये पोस्ट पसंद आई, तो इसे लाइक और शेयर करना न भूलें. Subscribe our Youtube Channel: AajKaReporter Follow us on: Facebook, Twitter, Instagram