“कलंगेर” एम करूणानिधि अंततः अपने गुरु अन्नादुरई के बगल में हुए दफ़न

आखिरकार तमाम मुश्किलात के बाद द्रविड़ राजनीति के स्तम्भ और तमिलनाडु के पूर्व मुख्यमंत्री एम करूणानिधि को उनके गुरु अन्नादुरई के बगल में दफ़न होने का स्वप्न साकार हुआ| कल ही उनकी मृत्यु से प्रदेश भर में शोक की लहर शुरू हो गई थी और हज़ारो में समर्थक अस्पताल के बाहर विलाप करते हुए उनके अंतिम दर्शन करने हेतु पहुंचे लेकिन द्रमुक की जानी दुश्मन अद्रमुक वाली सरकार ने पूर्व मुख्यमंत्री होने के नाते पहले मुख्यमंत्री रहे आर सी राजगोपालचारी की समाधी के समीप जगह देने की पेशकश की|

वह शख्स जिसने कभी हार नहीं मानी उसकी अंतिम यात्रा में भी हुई सियासत ने उसे हरवाया दिया लेकिन न्याय में देर है अंधेर नहीं| कोर्ट में हुई तात्कालिक कार्यवाही के बाद उन्हें मौका मिल गया|

उनका अंतिम संस्कार राज्य सम्मान के साथ किया गया था। उनकी आखिरी यात्रा राजाजी हॉल से एक सैन्य सुसज्जित सैन्य वाहन में शुरू हुई। आज सुबह से यहां पर उनके शरीर को रखा गया था। 94 वर्षीय अनुभवी राजनेता का शरीर तिरंगा के साथ लपेटा गया था जो दोपहर 4 बजे से पहले एक सैन्य वाहन पर सैन्य कर्मियों द्वारा आयोजित किया गया था।द्रमुक के कार्यकारी अध्यक्ष और करुणानिधि के बेटे एम.के. स्टालिन और पार्टी के नेता सैन्य वाहन के आगे-आगे चल रहे थे। इस अवसर पूरे तमिलनाडु से आए लाखों लोग भावुक मुद्रा में राजाजी हाल के आसपास जमा रहे। स्टालिन ने महान नेता की अंतिम यात्रा के दौरान लोगों से शांत रहने की अपील की। इससे पहले राजाजी हॉल में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने दिवंगत नेता एम. करुणानिधि को श्रद्धांजलि अर्पित की। पूरे तमिलनाडु से लाखों भावुक लोग भी यहां राजाजी हॉल में अपने प्रिय नेता को श्रद्धांजलि देने के लिए जमा हुए।

मोदी ने बाद में ट्वीट किया, ‘करुणानिधि ने तमिलनाडु, गरीबों और वंचितों के हित के लिए खुद को समर्पित कर दिया था। हालांकि उनका निधन हो गया है, लेकिन वह करोड़ों लोगों के दिलों में अभी भी मौजूद हैं।’

करुणानिधि के पार्थिव शरीर को राजाजी हॉल में लाने से पहले बुधवार तड़के गोपालपुरम में उनके घर ले जाया गया था, जहां रिश्तेदारों ने उनके अंतिम दर्शन किए। नास्तिकता , ब्राह्मणवाद विरोधी , तमिल भाषाई और द्रविड़ संस्कृति के पुरोधा करूणानिधि हमेशा से तमिलनाडु की अस्मिता के सेनापति बनकर सामने खड़े रहे जिन्होंने प्रदेश की किस्मत खुद ही लिख डाली|

Connect with Us! अपनी राय कमेंट्स में दें. ताजा ख़बरों के लिए हमें फॉलो करें. अगर आपको ये पोस्ट पसंद आई, तो इसे लाइक और शेयर करना न भूलें. Subscribe our Youtube Channel: AajKaReporter Follow us on: Facebook, Twitter, Instagram