जेडीयू ने दिया बीजेपी को चैलेंज नीतीश को ज्यादा सीट दो, या अकेले चुनाव लड़ लो

लोकसभा चुनाव 2019 जैसे-जैसे नजदीक आ रहा है उस को लेकर राजनीतिक गलियारों में भी चर्चा जोरों पर शुरू हो चुकी है। और इस रस्साकशी में सभी पार्टियों ने अपनी जोर-आजमाइश को शुरू कर दिया है और अब इसी बीच एक खबर आ रही है बिहार से, जहां पर बताया जा रहा है कि जेडीयू ने बीजेपी को चैलेंज दिया है कि आप अकेले चुनाव लड़ लीजिए या फिर नीतीश कुमार को ज्यादा सीट दीजिए। वहीं जदयू के प्रवक्ता ने बीजेपी को सीमा में रहकर बयानबाजी करने की नसीहत भी दी है।

 संजय सिंह ने कहा 2019 को हल्के में ना ले भाजपा –

जदयू के प्रवक्ता संजय सिंह ने बड़ा बयान देते हुए कहा है कि भाजपा अपनी सीमा में रहते हुए बयान बाजी करें क्योंकि अगर उसे लगता है कि 2014 के जैसा ही 2019 का माहौल है तो यह बिल्कुल ही गलत है। संजय सिंह ने यह भी कहा कि भाजपा जो बयान बाजी टीआरपी बढ़ाने के लिए देती है उस पर नियंत्रण रखें और आने वाले समय के बारे में ख्याल करे। संजय सिंह ने यह बयान उस समय दिया है जब 2019 के चुनावों को लेकर सभी राजनीतिक पार्टियां 2019 के चुनावों की तैयारियों में लगी हुई है, संजय सिंह ने यह भी कहा कि भाजपा को भविष्य के बारे में सोचना चाहिए कि नतीजे कुछ और ही हो सकते हैं।

40 सीटों पर अपना प्रत्याशी उतार सकती है भाजपा – 

संजय सिंह ने बयान देते हुए यह कहा कि अगर भाजपा को यह लगता है कि नीतीश कुमार चुनाव जीतने में सक्षम नहीं है तो वह आगामी लोकसभा चुनाव 2019 में 40 सीटों पर चुनाव लड़ने के लिए स्वतंत्र है, उसे जनता दल यूनियन की तरफ से किसी भी प्रकार के हस्तक्षेप का सामना नहीं करना पड़ेगा, वह स्वतंत्र हैं वह अपने उम्मीदवारों को 40 सीटों पर चुनाव लड़ने के लिए खड़ा करवा सकती है। लोकसभा चुनाव 2019 के लिए सीट बंटवारे को लेकर लेकर राजग में खींचतान जारी है और संजय सिंह के बीजेपी को लेकर इस तीखे बयान से साफ पता चलता है कि बिहार के गठबंधन में सब कुछ ठीक नहीं है।

बात अगर बिहार की करें तो एक तरफ बीजेपी बिहार में अपनी जीती हुई सीटों पर किसी भी प्रकार का समझौता करने के लिए तैयार नहीं है क्योंकि उसे लगता है कि लोकसभा चुनाव 2019 में अगर फतह हासिल करनी है तो उसे अपनी जीती हुई सीटों पर अपने ही प्रत्याशी को दोबारा खड़ा करना है ताकि वह जीत हासिल कर सके जबकि जनता दल यूनियन अपनी मांग पर अड़ी हुई है। जनता दल यूनियन का कहना यह है कि वह आने वाले लोकसभा चुनाव 2019 में 25 सीटों पर चुनाव लड़ेगी और BJP को नीतीश कुमार पर अगर भरोसा नहीं है तो वह 40 सीटों पर चुनाव लड़ने के लिए पूरी तरीके से स्वतंत्र हैं। अब ऐसी स्थिति में भाजपा एक ऐसे धर्म संकट में पड़ी है जहां से उसे उबरने की आवश्यकता दिखाई पड़ रही है क्योंकि अगर भाजपा 40 सीटों पर अपने प्रत्याशी उतारती है और यहां पर नीतीश भी अपनी पूरी जोर-आजमाइश के साथ चुनाव में भागीदारी करते हैं तो निश्चित है कि समीकरण बदल जाएंगे और लोकसभा चुनाव 2019 के नतीजे कुछ और ही निकलेंगे। अब देखना यह है कि बीजेपी इस मामले के तहत क्या फैसला लेती है।

Connect with Us! अपनी राय कमेंट्स में दें. ताजा ख़बरों के लिए हमें फॉलो करें. अगर आपको ये पोस्ट पसंद आई, तो इसे लाइक और शेयर करना न भूलें. Subscribe our Youtube Channel: AajKaReporter Follow us on: Facebook, Twitter, Instagram