डिजिटल पेमेंट सेक्टर को लेकर आरबीआई ने दिया यह बड़ा बयान

भारत में तेज़ी से बढ़ रहे डिजिटल पेमेंट सेक्टर को लेकर रिज़र्व बैंक ऑफ़ इंडिया ने बेहद बयान ज़ारी किया है जिससे सरकार की इस सेक्टर के प्रति निति के संकेत मिले है| यह कयास काफी समय से लगाया जा रहा था कि इस सेक्टर में किसी नयी कंपनी की एंट्री न रख कर इसको कुछ ही कंपनियों तक सीमित रखने पर विचार होगा| आज आरबीआई ने इसी के सिलसिले में बयान जारी किया|

क्या कहा आरबीआई 

रिज़र्व बैंक के अनुसार वह नहीं चाहता कि डिजिटल पेमेंट सेक्टर में कुछ बड़ी कंपनियों का दबदबा कायम रहे| इसमें नई कंपनियों के लिए भी आने की सम्भावना को बरकरार रखा जायेगा| आरबीआई की ओर से विकास एवं नियामक नीतियों पर जारी बयान के मुताबिक क्योंकि खुदरा भुगतान का बाज़ार काफी विस्तारित हो चुका है तो ऐसे में ज़रुरत है वित्तीय स्थिरता ताकि इस क्षेत्र के केन्द्रीकरण होने की क्षमता को कम कर सके|

इसलिए अब यह साफ़ हो चुका है कि यह सेक्टर ओपन फॉर आल रहेगा जिसके लिए आरबीआई ने अप्रत्यक्ष तौर अन्य बड़ी कंपनियों को इसमें आनी की पेशकश की है जो कि बाज़ार के लिए एक शुभ संकेत माना जा रहा है|

बता दें कि इस विषय पर आरबीआई सितम्बर तक एक पालिसी पेपर लाएगा| इस वक़्त इस भारत में पेटीएम , गूगल तेज़ ,फोनपे ,अमेज़न पे आदि कम्पनिया प्रमुख तौर पर डिजिटल पेमेंट के व्यवसाय से जुड़ी है| पेटीएम फिलहाल देश की सबसे बड़ी डिजिटल पेमेंट कंपनी है|

आरबीआई के इस रुख से शेयर बाज़ार में भी उछाल देखने को मिला और आने वाले दिनों  में डिजिटल पेमेंट कंपनियों के शेयर में भरी बढ़ोतरी की तीव्र सम्भावना है| नई कंपनियों के आने से ग्राहकों को नए विकल्प तो मिलेंगे ही साथ में स्वस्थ प्रतिस्पर्धा बढ़ने से सुविधाएं कस्टमर के अनुरूप बनेगी और संचालित होंगी और सरकार को तो इससे मिलने वाला टैक्स व राजस्व तो रहेगा ही जिससे वह जनता के विकास कार्य भी बेहतर ढंग से कर सके तो कुल मिलाकर सभी को खुश करने वाला आरबीआई द्वारा एक कॉम्बो डिसीजन|

Connect with Us! अपनी राय कमेंट्स में दें. ताजा ख़बरों के लिए हमें फॉलो करें. अगर आपको ये पोस्ट पसंद आई, तो इसे लाइक और शेयर करना न भूलें. Subscribe our Youtube Channel: AajKaReporter Follow us on: Facebook, Twitter, Instagram