पीएम मोदी द्वारा उद्धाटन हुए दिल्ली-मेरठ एक्सप्रेस-वे के साइकिल ट्रैक पर आ गयी दो महीने बाद ही दरार

हाल ही में बने दिल्ली-मेरठ एक्सप्रेस वे जोकी NH-24 के नाम से भी प्रसिद्ध है उस पर बने साइकिल ट्रैक पर करीबन 100 मीटर लंबी दरार आ गयी है।  दरार ट्रैक के बीचों बीच आई है और लोगो के अनुसार यह दरार सोमवार को आई है। जिस सब के बाद जेसीबी मशीन को  बुलाकर ट्रैक को  तोड़कर दोबारा से  बनाने का काम शुरू हो चुका है।

आपकी जानकारी के लिए  बता दें कि खुद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने दिल्ली-मेरठ एक्सप्रेस-वे के पहले हिस्से का उद्घाटन अपने हाथों से 2 महीने पहले 27 मई को किया था।  इस हाई वे के करीबन 8.5 किमी के पहले हिस्से को बनाने में 841 करोड़ रुपये की लागत आई जोकि यूपी गेट से लेकर निज़ामुद्दीन तक है।  ये दरार यूपी गेट के पास के साइकिल ट्रैक पर ही आई है जोकि हाई वे की शुरुआत में ही है। अब सवाल तो यह उठ रहा है कि हाई वे के बनने के 2 महीन बाद ही इसमें दरार कैसे आगयी?  इतनी जल्दी साइकिल ट्रैक पर दरार कैसे आई? जबकि  साइकिल ट्रैक पर तो ना ही भारी वाहन गुजरते हैं, ना ही कार और  ना दोपहिया तो फिर इस सीमेंटिड कंक्रीट के बने हिस्से के बीचों बीच दरार कैसे आ गयी है? हाल ही में हुई बारिश में इस एक्सप्रेस वे पर पानी के पूरी तरह से भरने की खबर आई थी परन्तु पानी के भराव से साइकिल ट्रैक में दरार आ जाना फिर भी अचंभे की बात है।

प्रधानमंत्री मोदी जी के उद्घाटन के करीबन 20 दिन के अंदर ही कुछ चोरो ने करीब-करीब ढाई करोड़ के माल की चोरी की थी। सोलर पैनल हो से लेकर फ़व्वारे,  एक्सप्रेसवे की बाड़ हो या साज-सज्जा का सामान चोर सब  चोरी करके ले गए थे। आपको बतादे की बागपत से डासना के बीच करीब 50 किमी में इस तरह  250 सोलर पैनल लगाए गए थे जिनमें आधे से ज्यादा सोलर पैनल और  बैटरी  चोर चोरी करके ले गए थे। सिर्फ एक सोलर पैनल की ही कीमत डेढ़ लाख के करीब है। इस सोलर पैनल का काम ऊर्जा को इकट्ठा कर  बैटरी में संचित करना था,  जिससे इस तरह के अंडरपास में रोशनी हो जाये ताकि अंडरपास से गुजरने वाले राहगीरों को रोशनी मिल सके।

Connect with Us! अपनी राय कमेंट्स में दें. ताजा ख़बरों के लिए हमें फॉलो करें. अगर आपको ये पोस्ट पसंद आई, तो इसे लाइक और शेयर करना न भूलें. Subscribe our Youtube Channel: AajKaReporter Follow us on: Facebook, Twitter, Instagram