बेऊर की धरती पर दिल दहला देने वाली घटना- बेऊर जेल में चला खुनी खेल

सुबह का सूरज कुछ ज्यादा ही लाल था और लाल थी बेऊर जेल की धरती, इंसानी खून से। कल भेरु जेल में कुछ पाल संतोष अपने कर्तव्यों का निर्वहन कर रहे थे वे निश्चित थे कि जब सुशासन की सरकार में आम आदमी भी सुरक्षित है तो उनसे जैसे समाज के प्रहरी का बिहार के सबसे सुरक्षित इलाका, जो बेऊर जेल की नाम से जाना जाता है, कोई बाल भी बांका नहीं कर सकता। लेकिन यह क्या नियति ने कुछ और ही तय कर रखा था। एक दनदनाती हुई गोली आई और उनके जिस्म में समा गई। सबकुछ इतना आनन् फानन में हुआ की उन्हें सँभालने का मौका भी नहीं मिला। चलता फिरता आदमी शांत हो गया, शांत हो गया उसका विश्वास, शांत हो गया बिहार के सुशासन का वो चेहरा और इसी के साथ शांत हो गया वो उस हत्यारे का क्रूर चेहरा।

कौन था यह हत्यारा?

कक्षपाल संतोष की हत्या करने वाला व्यक्ति उसका अपना भांजा विशाल था, जिसने हत्या के बाद खुद को भी गोली मारकर आत्महत्या का प्रयास किया। बताया गया की मामला संपत्ति विवाद का था। घटना के बाद जल्दबाजी में कक्षपाल (जेल वार्डन) संतोष के परिजनों ने उन्हें PMCH अस्पताल लाया, जहाँ चकित्सकों ने उन्हें मृत घोषित कर दिया। वहीँ घटना के अंजामकर्ता विशाल का इलाज निजी अस्पताल में चल रहा है।

इस घटना को लेकर विपक्ष बिहार सरकार को घेरने की तैयारी कर चूका है। पूर्व उप मुख्यमंत्री व विपक्ष के नेता तेजस्वी यादव ने ट्वीट कर कहा कि “कितना सुरक्षित है मेरा बिहार ? बेऊर जेल में कक्षपाल को जेल में ही मारी गोली। इससे ज्यादा मंगलराज का नमूना मिलेगा आपको ?

अब रटे रटाये बोल सुनियेगा – कानून का राज़ है, किसी को बख्शा नहीं जाएगा।”

Connect with Us! अपनी राय कमेंट्स में दें. ताजा ख़बरों के लिए हमें फॉलो करें. अगर आपको ये पोस्ट पसंद आई, तो इसे लाइक और शेयर करना न भूलें. Subscribe our Youtube Channel: AajKaReporter Follow us on: Facebook, Twitter, Instagram