भारत यात्रा पर आयी निकि हेली ने ईरान,चीन,पाकिस्तान को दिया इशारा

संयुक्त राष्ट्र में अमेरिकी राजदूत निकी हेली 3 दिन की भारत यात्रा पर हैं। कल नई दिल्ली में उन्होंने इंडियन थिंक टैंक(ऑब्जर्वर रिसर्च फाउंडेशन)को संबोधित किया। इस समय उन्होंने पाकिस्तान और चीन पर सीधा निशाना साधा। उन्होंने कहा की, एक तरफ पाकिस्तान खुद आतंकवादियों को संरक्षण देता है, उन्हें बढ़ावा देता हैं और दुसरी तरफ आतंकवाद के मुद्दे पर हमेशा खुद को पीड़ित बताता है। उन्होंने साफ कहा की, पाकिस्तान अपनी धरती का इस्तेमाल आतंकी संगठनों के लिए न करे। आतंकी संगठन मानवता के लिए खतरा हैं और उन्हें किसी भी कीमत पर समूल नष्ट करना होगा। हम पाकिस्तान को पहले की तुलना में अधिक सख्ती से यह संदेश दे रहे हैं और हमें बदलाव की उम्मीद है।

उन्होंने कहा कि, अमेरिका का पाकिस्तान के साथ संबंधों के प्रति रवैया पहले से अलग है। पाकिस्तान कई मामलों में अमेरिका का भागीदार है, लेकिन आतंकवादियों को पाकिस्तानी सरकार या किसी अन्य सरकार के पनाह देने को अमेरिका बर्दाश्त नहीं कर सकता।इसके साथ ही उन्होंने कहा कि, आतंकवाद के खिलाफ मुहिम में अमेरिका और भारत एकदूसरे के साथ आगे मिलकर बढ़ सकते हैं और उस दिशा में दोनों देशों को बहुत कुछ करना चाहिए। निक्की हैली ने कहा, पीएम मोदी ने शांगरी ला डायलॉग में मुक्त और खुले भारत-प्रशांत क्षेत्र को लेकर अपना विचार रखा था। ये विचार राष्ट्रपति ट्रंप को भी पसंद आया था।

संयुक्त राष्ट्र में राजदूत नियुक्त किए जाने के बाद अपनी प्रथम भारत यात्रा पर आई हेली ने ईरान को धर्म के नाम पर तानाशाही करने वाला एक देश बताया, जो अपने ही लोगों का उत्पीड़न करता है। हेली ने कहा कि, ईरान आतंकवाद को आर्थिक मदद करता है और पश्चिम आशिया में टकराव को बढ़ावा देता है। चीन को इशारा देते हुए निक्की हेली ने कहा कि, अमेरिका चीन से अच्छे संबंध चाहता है। हालांकि चीन हमारी तरह लोकतांत्रिक मूल्य साझा नहीं करता है। एशिया-प्रशांत क्षेत्र में उसका विस्तार अमेरिका और कई अन्य देशों के लिए चिंता का विषय है।

निकि हेली ने बुधवार को उन्होंने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और विदेश मंत्री सुषमा स्वराज से मुलाकात की थी। गुरवार को उन्होंने जहां दिल्ली में चर्च, गुरुद्वारा, मस्जिद और मंदिर का दौरा किया और इन स्थानों पर शीश नवाया। साथ ही उन्होंने कहा की, भारतीयों ने मुझे हमेशा अपने जैसा ही समझा। एक गवर्नर के तौर पर मैं यह कहना चाहती हूं कि, मैं भारतीय अप्रवासी की बेटी हू। भारतीयों का ईमानदारी से काम करना और शिक्षा के प्रति गहरा लगाव पर मुझे गर्व है।

Connect with Us! अपनी राय कमेंट्स में दें. ताजा ख़बरों के लिए हमें फॉलो करें. अगर आपको ये पोस्ट पसंद आई, तो इसे लाइक और शेयर करना न भूलें. Subscribe our Youtube Channel: AajKaReporter Follow us on: Facebook, Twitter, Instagram