मिशन 2019 के तहत यूपी का मोर्चा सीधे केंद्रीय हालाकमान संभालेगा

Capture 2

बीजेपी का केंद्रीय हालाकमान उत्तर प्रदेश में लोकसभा चुनावों की तैयारियों की निगरानी   सीधे करेगा। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी स्वयं लगातार  उत्तर प्रदेश के विभिन्न हिस्सों का दौरा कर रहे हैं और दूसरी तरफ अमित शाह ने संगठनात्मक ताकत के लिए कदम उठाने शुरू कर दिए हैं। सभी जिलों में लोकसभा चुनाव प्रभारी -गण के साथ कुछ प्रमुख नेताओं को राज्य स्तर पर संगठन में जोड़ा जाएगा।

बीजेपी के लिए उत्तर प्रदेश ही सबसे महत्वपूर्ण है क्योंकि इसने वर्तमान लोकसभा में सबसे ज्यादा 71 सीटें यहीं से जीती हैं। अगले साल होने वाले अगले लोकसभा चुनावों में विपक्षी दलों की एकता के कारण विशेष रूप से एसपी और बीएसपी के साथ चुनाव लड़ने की संभावना के कारण बीजेपी के लिए चुनौती कठिन होगी। प्रधानमंत्री होने के बाद नरेंद्र मोदी उत्तर प्रदेश वाराणसी से सांसद भी है और ऐसी स्थिति में वह खुद पार्टी का नेतृत्व कर रहे हैं।

यह होगी रणनीति यूपी फ़तेह हेतु 

यह उल्लेखनीय है कि 4 और 5 जुलाई को उत्तर प्रदेश दौरे में अमित शाह ने राज्य में चुनाव की तैयारी और राज्य संगठन खामियों पर काम किया था। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी भी जुलाई में पांच दिनों के लिए उत्तर प्रदेश जाएंगे। मोदी ने 9 जुलाई को दक्षिण कोरिया के राष्ट्रपति के साथ नोएडा में सैमसंग की मोबाइल विनिर्माण इकाई का उद्घाटन किया था।

14 जुलाई को आजमगढ़ में कार्यक्रम हैं जहां वे लखनऊ को बलिया से जोड़ने वाली पूर्वांचल एक्सप्रेसवे की नींव रखेंगे। उस दिन वह वाराणसी जाएंगे और अपने संसदीय क्षेत्र में पांच सौ बुद्धिजीवियों से मिलेंगे।

Must Read-ऋतिक रोशन के जिंदगी की सबसे बड़ी भूल कहीं सुपर-30 तो नही ?

प्रधानमंत्री 15 जुलाई को वाराणसी में कई कार्यक्रमों के शिलान्यास व समीक्षा कार्यक्रमों में हिस्सा लेंगे। साथ ही जनसभा को भी संबोधित करेगे। इनमें वाराणसी के गंगा घाटों के नवीनीकरण की समीक्षा व चुनाव में बाणसागर परियोजना व गंगा पर बने पुल का लोकार्पण का कार्यक्रम भी है। इसके बाद 21 जुलाई के अपने दौरे में प्रधानमंत्री शाहजहांपुर में किसान कल्याण रैली करेंगे। प्रधानमंत्री 29 जुलाई को लखनऊ में शहरी विकास मंत्रालय के कार्यक्रम में शामिल होंगे।

Must REad-LG पर फिर गिरी सुप्रीम कोर्ट की गाज, सुप्रीम कोर्ट ने कहा- ‘क्यों नहीं जाते मीटिंग में सुपरमैन’

इन सब कार्यक्रमों द्वारा प्रदेश को नई विकास की सौगातें देकर वोट साधने की राजनैतिक पेशकश है जो कि चुनावी वर्ष या ठीक उससे पहले देखने को मिलता है तो ऐसे में जनता समझदार है और वह अच्छे से जानती है कि क्या चल रहा है ज़मीन पर और क्योंI

Connect with Us! अपनी राय कमेंट्स में दें. ताजा ख़बरों के लिए हमें फॉलो करें. अगर आपको ये पोस्ट पसंद आई, तो इसे लाइक और शेयर करना न भूलें. Subscribe our Youtube Channel: AajKaReporter Follow us on: Facebook, Twitter, Instagram