मोदी सरकार के पूरे हुए चार साल, भाजपा का नया नारा- ‘2019 में फिर मोदी सरकार’

आज शनिवार को पीएम मोदी सरकार के चार वर्ष पूरे होने के अवसर पर ओडिशा के कटक में पहली बार एक जनसभा को संबोधित करेंगे। वो यहां महानदी नदी के तट पर स्थित बाजी जातरा मैदान में एक सार्वजनिक रैली को संबोधित करेंगे। वहीं मजबूत हो रहे विपक्षी एकता को भी कमजोर करने के लिए लोगों के बीच अपनी बात रखेंगे। प्रधानमंत्री के रैली को देखते हुए राजधानी भुवनेश्वर और कटक में सुरक्षा के कड़े इंतजाम किए गए हैं। जबकि बीजेपी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह पार्टी मुख्यालय पर दोपहर 12:30 बजे पत्रकारों को संबोधित करेंगे।

26 मई 2014 में अच्छे दिन आने वाले हैं के नारे के साथ सत्ता में आई भाजपा एनडीए ने अब आगामी चुनाव के लिए अपनी तैयारियां शुरू कर दी है। इसके चलते भाजपा ने अब एक नया स्लोगन तैयार किया है। इसी के चलते भाजपा ने एक 3 मिनट का एक वीडियो जारी किया है। इस वीडियो में एनडीए के चार वर्षों में लोगों ने सरकार की योजनाओं का कैसे लाभ लिया है, इसका पूरा विवरण पेश किया गया है। आज के दिन पर भाजपा देशभर में कार्यक्रम कर रही है और सरकार की उपलब्धियां गिना रही है, जिसका फायदा हो सकता है। भाजपा अपने उपलब्धियों को जनता के सामने ‘‘ साफ नीयत, सही विकास’’ के नये नारे के साथ पेश कर रही है। ये रही कुछ उपलब्धियां जिसने लोगों को प्रभावित किया।

1. मुद्रा योजना

2. उजाला योजना

3. ‎दीनदयाल उपाध्‍याय ग्राम ज्‍योति योजना

4. सर्जिकल स्ट्राइक

5. ‎विदेशी नीति

6. विकास दर

7. ‎आधार

सरकार की ऐसी योजनाएं जो सबसे ज्यादा सफल हुई।

1. जन-धन बैंक खाता खोलना

पीएम ने 15 अगस्त को लालकिले पर भाषण देने के दौरान इसकी घोषणा की थी। योजना के उद्घाटन के पहले दिन ही 1.5 करोड़ बैंक खाते खोले गए।

2. उज्ज्वला योजना

1 मई 2016 को यूपी के बलिया से इस योजना की नींव रखी गई। इसके तहत गरीब परिवार की महिलाओं को केंद्र सरकार की तरफ से निशुल्क एलपीजी कनेक्शन देने की व्यवस्था है। अब तक करीब 5 करोड़ बीपीएल परिवार की महिलाओं को मुफ्त रसोई गैस कनेक्शन दिया जा चुका है।

3. बेटी पढ़ाओ बेटी बचाओ

9 जनवरी 2015 को पीएम ने हरियाणा के पानीपत से ‘बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ’ योजना की शुरुआत की थी। इसका लक्ष्य लड़कियों को पढ़ाई के जरिए सामाजिक और वित्तीय तौर पर आत्मनिर्भर बनाना है।

4. स्वच्छता अभियान

11 अक्टूबर 2014 को महात्मा गांधी की जयंती के दिन पीएम मोदी के नेतृत्व में इस अभियान की शुरुआत हुई थी।इसके तहत 2019 तक देश को स्वच्छ बनाने का लक्ष्य निर्धारित किया गया है।

5. जीएसटी

इसके जरिए 1 जुलाई 2017 से केंद्र स्तर के 8 टैक्स और राज्य स्तर पर लागू होने वाले 9 तरह के टैक्स को खत्म किया गया। साथ ही पूरे देश के लिए एक ही अप्रत्यक्ष कर प्रणाली लागू की गई।

6. ‎प्रधानमंत्री आवास योजना

19 जून 2015 को इस योजना का शुभारंभ हुआ था। जिनमें सरकार 20 लाख घरों का निर्माण कराएगी। 2022 तक सभी को घर उपलब्ध कराने का उद्देश्य है।

7. स्टार्ट अप इंडिया

देश के आर्थिक विकास और बड़े पैमाने पर रोजगार के अवसर उपलब्ध कराने के लिए 2015 में ‘स्टार्ट अप इंडिया’ की घोषणा की गई थी। इस योजना के तहत सरकार कई सुविधाएं देती है।

जैसे सरकार की अच्छाइयों पर हमने गौर किया वैसे हर सरकार की तरह इस सरकार की भी कई बुराइयां हैं। जिसमें से कुछ नाकामियां ऐसे हैं, जिन्होंने देश की जनता को परेशानी में डाल दिया।

1. पेट्रोल-डीजल का दाम

2. कश्मीर घाटी में अशांति

3. पाकिस्तान पर मोदी सरकार का स्टैंड

4. कालेधन पर सरकार फेल

5. बेरोजगारी

6. नोटबंदी

7. भ्रष्टाचार

8. ‎ट्रिपल तलाक

9. ‎दलित उत्पीड़न

प्रधानमंत्री मोदी ने ट्वीट कर लिखा, ‘2014 में आज ही के दिन हम सबने साथ मिलकर भारत को बदलाव करने की दिशा में काम शुरू किया। हर नागरिक को अहसास हुआ है कि, वह देश के विकास में अहम भूमिका निभा रहा है। 125 करोड़ जनता देश को नई ऊंचाइयों पर ले जा रही है। मेरी सरकार पर विश्वास बनाए रखने के लिए मैं देश की जनता का आभारी हूं।’

इस अभियान को 2019 की तैयारियों के तहत भी देखा जा रहा है। दरअसल, बीजेपी 2019 में ओडिशा की ज्‍यादा से ज्‍यादा लोकसभा सीटों पर जीत की उम्‍मीद कर रही है। ओडिशा में 21 लोकसभा सीट है। इनमें से 20 सीटें बीजू जनता दल (बीजेडी) के पास है। वहीं, एक सीट बीजेपी को मिली है। पार्टी अगले आम चुनाव में 80 नई लोकसभा सीटें जीतने का दावा कर रही है। हालांकि, उसका टारगेट 120 सीट का है। उसके निशाने पर वैसे तो सभी राज्य हैं, लेकिन पश्चिम बंगाल और उड़ीसा पर खास फोकस रहेगा।

लोकसभा चुनाव में एनडीए के घटक दलों को इस बार भाजपा नाराज करने के मूड में नजर आती नहीं दिख रही है। भाजपा सभी दलों को उनके हिसाब से जीतने वाली सीटें दे सकती है। जरूरत पड़ी तो वह कुछ सीटों पर कुर्बानी भी दे सकती है। भाजपा महाराष्ट्र में शिवसेना के साथ मिलकर लोकसभा चुनाव लड़ेगी, यह तय हो चुका है। इसी तरह बिहार में रामविलास पासवान और कुशवाहा, को उनकी जीतने वाली सीटें मिल सकती हैं। बिहार में तो अब नीतीश कुमार की जेडीयू भी गठबंधन का हिस्सा है। लिहाजा, भाजपा बिहार में कुछ सीटें छोड़ सकती है। ऐसा संकेत भी मिल रहा है।

चार साल पूरे होने के मौके पर 27 मई से 11 जून तक विशेष संपर्क अभियान चलाने का ऐलान किया है, जिसके तहत भाजपा के चार हजार वरिष्ठ नेता देश के एक लाख प्रबुद्ध लोगों से संपर्क करेंगे। इसके अलावा पार्टी 26 मई से 11 जूतक तक देश भर में जनसंपर्क का नौ सूत्रीय अभियान भी चलाएगी। मोदी सरकार के 10 मंत्री 26 मई से 30 मई तक देश के 40 शहरों में प्रेस कॉन्फ्रेंस करेंगे और सरकार की उपलब्धियां गिनाएंगे। इन शहरों में सभी प्रदेश की राजधानियां भी शामिल हैं।

Connect with Us! अपनी राय कमेंट्स में दें. ताजा ख़बरों के लिए हमें फॉलो करें. अगर आपको ये पोस्ट पसंद आई, तो इसे लाइक और शेयर करना न भूलें. Subscribe our Youtube Channel: AajKaReporter Follow us on: Facebook, Twitter, Instagram