CM से मिलने की ममता बनर्जी और चंद्रबाबू नायडू को नहीं मिली इजाजत, केजरीवाल बोले पीएमओ ने मना करवाया

उपराज्यपाल के दफ्तर में अरविंद केजरीवाल पिछले कई दिनों से लगातार धरने पर बैठे हैं। सोफे पर बैठ कर किए जाने वाला धरना अपने आप में अनोखा भी है और दिलचस्प भी। अब इस मामले में राजनीति तेज हो गई है जिसको लेकर राजनीतिक गलियारों में हलचल मची हुई है। पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी और आंध्र प्रदेश के मुख्यमंत्री चंद्रबाबू नायडू ने शनिवार की रात अरविंद केजरीवाल से मिलने के लिए इजाजत मांगी थी जिसे मना कर दिया गया है। इस बाबत अरविंद केजरीवाल ने ट्वीट करते हुए कहा है कि ‘जाहिर है कि पीएमओ ऑफिस से मिलने की इजाजत नहीं दी गई है ।

‘आप’ नेताओं ने बताया कि ‘नहीं मिली मिलने की इजाजत’ –

शनिवार की रात ममता बनर्जी और चंद्रबाबू नायडू ने मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल से राजनिवास में मिलने की इजाजत मांगी थी। जिसे मना कर दिया गया। आम आदमी पार्टी के नेताओं ने ट्वीट करके बताया कि इन दोनों नेताओं को CM अरविंद केजरीवाल से मिलने की इजाजत नहीं दी गई है।

CM अरविंद केजरीवाल ने रीट्वीट करके पीएमओ पर लगाया आरोप –

आम आदमी पार्टी के नेताओं के द्वारा किए गए ट्वीट को रिट्वीट करते हुए अरविंद केजरीवाल ने कहा कि मुझे नहीं लगता कि माननीय उपराज्यपाल ऐसा फैसला खुद ले सकते हैं, जाहिर है कि प्रधानमंत्री कार्यालय से मना करवाने का निर्देश दिया गया है। ठीक उसी तरह जिस तरह पीएमओ की वजह से आईएएस अधिकारियों की हड़ताल की जा रही है।”

एचडी कुमारस्वामी ने भी जताई थी मिलने की इच्छा –

LG कार्यालय पर धरना दे रहे CM अरविंद केजरीवाल से ममता बनर्जी और चंद्रबाबू नायडू के अलावा कर्नाटक के मुख्यमंत्री एचडी कुमार स्वामी, केरल के मुख्यमंत्री पिनरायी विजयन ने भी राजनिवास में अरविंद केजरीवाल से मिलने की इच्छा जताई थी। इस संदर्भ में चारों लोगों ने उपराज्यपाल अनिल बैजल को पत्र लिखकर CM अरविंद केजरीवाल से मिलने का समय मांगा था।

क्यों धरने पर बैठे हैं सीएम अरविंद केजरीवाल –

अनिल बैजल के दफ्तर पर CM अरविंद केजरीवाल के अलावा डिप्टी सीएम मनीष सिसोदिया, कैबिनेट मंत्री सत्येंद्र जैन और गोपाल राय भी सोमवार से LG दफ्तर के कार्यालय राजनिवास में धरने पर बैठे हैं। इन लोगों की मांग है कि दिल्ली सरकार के तहत चलने वाले आईएएस अधिकारियों के द्वारा की जा रही अघोषित हड़ताल खत्म करके काम पर वापस आने के लिए अनिल बैजल उन्हें निर्देश दें।

गौरतलब है कि CM अरविंद केजरीवाल का धरने में साथ दे रहे डिप्टी सीएम मनीष सिसोदिया ने कहा है कि अगर एलजी हमारी मांगे नहीं मांगते तो हम पानी पीना भी छोड़ देंगे। मनीष सिसोदिया का इस मामले के संदर्भ में कहना है कि उप राज्यपाल के आदेश पर ही आईएएस अधिकारी हड़ताल पर गए हुए हैं। उनका कहना है कि एलजी अनिल बैजल को पीएम मोदी से दिल्ली सरकार को विफल साबित करने का आर्डर मिला हुआ है। लेकिन वो इसमें कभी सफल नहीं हो पाएंगे।

Connect with Us! अपनी राय कमेंट्स में दें. ताजा ख़बरों के लिए हमें फॉलो करें. अगर आपको ये पोस्ट पसंद आई, तो इसे लाइक और शेयर करना न भूलें. Subscribe our Youtube Channel: AajKaReporter Follow us on: Facebook, Twitter, Instagram