आखिर क्यों गुजरातियों ने लिया बिहारियों के साथ यह इंतकाम!!

गुजरात के साबरकांठा जिले में 14 माह की बच्ची से बलात्कार की घटना के बाद गैर-गुजरातियों पर कथित तौर पर हमला करने के मामलों में गुजरात के विभिन्न भागों से पुलिस ने अब तक 342 लोगों को गिरफ्तार किया है। घटना के बाद गुजरात में रहने वाले यूपी-बिहार के लोगों ने पलायन शुरू कर दिया है।

 क्या है पूरा मुद्दा ?

28 सितंबर को 14 महीने की बच्ची के साथ बलात्कार के मामले में एक बिहारी युवक को गिरफ्तार किया गया था । इस मामले के बाद सोशल मीडिया पर यूपी-बिहार के लोगों को लेकर कई नफरत भरे संदेश वायरल हो गए, जिसके बाद गैर-गुजरातियों खासकर यूपी-बिहार के लोगों के खिलाफ हिंसा भड़क गई। गैर गुजरातियों पर हो रहे हिंसा के डर से यूपी-बिहार के लोग वापस अपने प्रदेश लौटने के लिए मजबूर हो रहे हैं। गुजरात से बाहरी लोगों पर हिंसा के इन मामलों में कुल 6 जिले प्रभावित हुए हैं। सबसे ज्यादा मेहसाणा और साबरकांठा जिले प्रभावात है। मेहसाणा में इस मामले में अब तक 89 लोगों को गिरफ्तार किया गया है। वहीं दूसरी तरफ साबरकांठा में 95 लोगों को गिरफ्तार कर लिया गया है। इसके बाद अहमदाबाद में 73 लोगों को और गांधीनगर में 27 लोगों को गिरफ्तार किया गया है।

गुजरात में फैले इस बवाल के बाद सियासत ने भी तेज पकड़ लिया है और कई पार्टियां उस मुद्दे पर अपने अपने बयान बाजी करने से पीछे नहीं चूक रही हैं। वहीं, दूसरी ओर बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने इन मामलों को लेकर गुजरात के मुख्यमंत्री विजय रूपानी से बात की। सोमवार को उन्होंने कहा कि मैंने कल शाम ही उनसे बात की थी, जो भी इस मामले में दोषी हैं उन्हें सजा मिलनी चाहिए लेकिन, किसी अन्य को परेशान नहीं किया जाना चाहिए। कांग्रेस नेता संजय निरूपम ने इस मुद्दे पर प्रधानमंत्री को घेरा है। उन्होंने बयान दिया कि प्रधानमंत्री के गृह राज्य में अगर यूपी, बिहार, MP के लोगों को मारकर भगाया जा रहा है, तो एक दिन पीएम को भी वाराणसी जाना है इसे याद रखना। वाराणसी के लोगों ने उन्हें गले लगाया है और प्रधानमंत्री बनाया है।

विरोधी दल की पार्टियां लगातार बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार को विवादों के घेरे में लेने को अकड़ी हुई है और नीतीश कुमार की परेशानियां थमने का नाम ही नहीं ले रही हैं। लेकिन गुजरात में फैली इस हिंसा से यह साफ हो गया है कि यूपी और बिहार के लोगों को वहां रहना असंभव सा महसूस हो रहा है और तभी गैर गुजराती वहां से भाग कर अपने अपने प्रदेश लौट आने को मजबूर हैं।

Connect with Us! अपनी राय कमेंट्स में दें. ताजा ख़बरों के लिए हमें फॉलो करें. अगर आपको ये पोस्ट पसंद आई, तो इसे लाइक और शेयर करना न भूलें. Subscribe our Youtube Channel: AajKaReporter Follow us on: Facebook, Twitter, Instagram