तभी छपेगा विवाह आमंत्रण पत्र, जब देंगे प्रिंटिंग प्रेस में उम्र प्रमाण पत्र

मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने महात्मा गांधी जयंतो 2 अक्टूबर को पटना के कन्वेंशन सेंटर के बापू सभागार से दहेज प्रथा और बाल विवाह उन्मूलन के खिलाफ राज्यव्यपी अभियान का शुभारंभ किया था। शराबबंदी के बाद अब बिहार सरकार द्वारा बिहार में दहेज प्रथा और बाल विवाह के खिलाफ सशक्त अभियान चलाया जा रहा है। इसी कड़ी में, बिहार सरकार ने बाल विवाह उन्मूलन के लिए राज्यव्यपी अभियान के तहत शादियों के मौसम शुरू होने से पूर्व ही एक अधिसूचना जारी कर अपने सख्त मंसूबे जाहिर कर दिए है। इस जारी नए अधिसूचना के अनुसार विवाह-आमंत्रण कार्ड छपवाने से पूर्व उम्र प्रमाण पत्र देना होगा, तभी आमंत्रण पत्र छपेगा। अब उम्र प्रमाण पत्र अनिवार्य रूप से प्रिंटिंग प्रेस को देना ही होगा।

सरकार के इस कदम से जहां बाल विवाह में कमी आने की संभावना है। इसे और असरकारी बनाने के लिए सभी प्रिंटिंग प्रेसों को साझा प्रयास कर सरकार के निर्णय को प्रभावकारी बनाना होगा। सरकार को भी ये सुनिश्चित करना होगा कि शहरी क्षेत्रों के साथ ग्रामीण क्षेत्रो में भी बिना उम्र प्रमाण पत्र लिए हुए कोई भी शादी कार्ड नहीं छाप जाय।

उम्मीद तो यही है कि बिहार सरकार इस सामाजिक अभिशाप के उन्मूलन के लिए इसी प्रकार राज्यव्यपी अभियान जारी रखे। सरकार के ऐसे ही निर्णयों और सख्त कदमों से ही उन्मूलन संभव है।

 

Connect with Us! अपनी राय कमेंट्स में दें. ताजा ख़बरों के लिए हमें फॉलो करें. अगर आपको ये पोस्ट पसंद आई, तो इसे लाइक और शेयर करना न भूलें. Subscribe our Youtube Channel: AajKaReporter Follow us on: Facebook, Twitter, Instagram