संसद ने पास किया ऐतिहासिक बिल – बच्चियों के बलात्कारियों को सिर्फ सजा-ए-मौत !

लोकसभा के बाद राज्यसभा में भी बच्चियों से बलात्कार के अपराध को लेकर लंबित अध्यादेश को ध्वनिमत से पारित कर दिया गया जिससे एक ऐतिहासिक पल हमारे भारतीय न्यायिक व्यवस्था में आया है जिससे लड़कियों की अस्मिता की रक्षा होगी| 12 साल से कम उम्र की बच्ची के साथ बलात्कार के मामलों में फाँसी और 16 साल तक की बच्ची के साथ दुष्कर्म होने पर आजीवन कारावास की सजा मुक़र्रर करने वाले विधेयक को सकारात्मक चर्चा के बाद पूर्ण मत से पारित किया गया जिसके बाद राष्ट्रपति से इसे भेजा जायेगा और फिर उनके हस्ताक्षर होने के बाद यह बिल एक एक्ट यानी कानून बन जायेगा|

राज्यसभा ने आज ध्वनिमत से दंड विधि संशोधन विधेयक को पारित कर दिया जिसमें छोटी बच्चियों के साथ बलात्कार के मामलों में कड़ी सजा के उपरोक्त प्रावधान किए गए हैं। लोकसभा इसे पिछले हफ्ते पारित कर चुकी है। इस संबंध में अध्यादेश 21 अप्रैल को जारी किया गया था।

गृह राज्य मंत्री किरेन रिजिजू ने सदन में लगभग दो घंटे तक चली चर्चा का जवाब देते हुए विपक्ष की इस मांग को खारिज कर दिया कि इस विधेयक को सदन की संयुक्त प्रवर समिति के पास भेजा जाए और फांसी की सजा को आजीचन कारावास में बदला जाए। उन्होंने कहा कि कई राज्यों ने बच्चियों के साथ दुष्कर्म के मामलों में फांसी की सजा देने का प्रावधान करने को कहा था। मध्यप्रदेश, हरियाणा, अरुणाचलप्रदेश और उत्तरप्रदेश में ऐसे मामलों में फांसी की सजा का प्रावधान कर चुके हैं। रिजिजू ने कहा कि महिला सुरक्षा सुनिश्चित करने के लिए विधेयक में सभी आवश्यक प्रावधान किए गये हैं।

मंत्री ने कहा कि सभी अस्पतालों के लिए बलात्कार पीड़ितों का मुफ्त उपचार आवश्यक है। साथ ही, सुनवाई के दौरान पीड़िता के चरित्र पर कोई वकील सवाल नहीं कर पाएगा। वह अदालत में महिला के चरित्र के साथ कोई मुद्दा नहीं उठाएगा। जब मामला न्यायिक मजिस्ट्रेट के नोटिस पर आता है, तो उसे तुरंत उद्धृत करना होगा। उन्होंने कहा कि बलात्कार से संबंधित मामलों में फोरेंसिक जांच के लिए हर शहर में विशेष प्रयोगशालाएं की जाएंगी।

इस विधेयक के तहत कोर्ट की प्रक्रिया में सुनवाई पूरी होने की अवधि दो महीने  तय किया गया है, जबकि अपील छह महीने के भीतर पूरी की जाएगी। रिजजू ने कहा कि 12 साल और 16 साल की उम्र की बालिकाओं के साथ बलात्कार के मामलों में , अग्रिम जमानत नहीं मिल सकती है|

आज के दिन के बाद उम्मीद की जानी चाहिए कि गुनहगारों के दिल में खौफ पनपेगा और हमारी छोटी बच्चियां सुरक्षित महसूस कर सकेंगी|

Connect with Us! अपनी राय कमेंट्स में दें. ताजा ख़बरों के लिए हमें फॉलो करें. अगर आपको ये पोस्ट पसंद आई, तो इसे लाइक और शेयर करना न भूलें. Subscribe our Youtube Channel: AajKaReporter Follow us on: Facebook, Twitter, Instagram