आइये आपको बताएं क्यों महत्वपूर्ण है साल का पहला दिन

साल का पहला दिन

1 जनवरी प्रतिवर्ष पूरी दुनिया में नववर्ष दिवस के रूप ममे मनाया जाता है| जनवरी के महीने का नाम प्राचीन के देवत “जेनस” के नाम पर पड़ा| मन जाता है की ‘नववर्ष दिवस’ सर्वप्रथम रोम के लोगो ने मनाया था परन्तु कुछ लोगो का मत है की नववर्ष सबसे पहले चीन वासी ने मनाया था| कुछ लोग का ये भी मनांना है की नववर्ष सबसे पहले जर्मनी के निवासियों ने मनाया| कुछ भी हो यह नववर्ष अब पूरी दुनिया में साल के पहले दिन हर्षौल्लास के साथ मनाया जाता है| प्राचीन जर्मनवासी 1 जनवरी को बदलते मौसम के लिए ‘नववर्ष उत्सव’ के रूप में मानते थे परन्तु प्राचीन चिन्वासी खलिहानों से फसल उठाकर नए पकवान बनाते थे और छुटी के साथ नववर्ष दिवस मानते थे सन 1752 से स्कॉटलैंड में 1जनवरी से नया कैलेंडर साल शुरू हुआ था|

कैथोलिक इसाई 1 जनवरी को ‘विश्व शांति’ दिवस के रूप में मानते है| पोप इस दिन चर्च से भाषण देते है और विश्व शांति की कमाना करते है|  वे इस दिन यह बताते है की धर्म ही ऐसा मार्ग है जिस पर चलकर हम सही गलत की पहचान कर सकते है| नववर्ष का उत्साह 31 दिसम्बर की शाम से ही शुरू हो जाता है| रात्रि के 12 बजे के बाद लोग एक दुसरे को नववर्ष की शुभकामानाएं देने लग जाते है|

ये भी पढ़ें-2018 के लिए करण जौहर के रिज़ॉल्यूशनस और आपका?

आज विश्व परिवार दिवस भी मनाया जाता है| संयुक्त राष्ट्र संघ की मिलिनियम महोत्सव के प्रतिरूप के तौर पर अखिल विश्व में शांति एवं सहयोग को बढ़ाने के लिए इसे मनाया जाता है|

आज के दिन ही सन 1764 में ईस्ट इंडिया कंपनी में बंगाल मेडिकल सर्विसेज का गठन किया गया जिसके आधार पर भारतीय सेना इस दिन को आर्मी मेडिकल कॉप्स एस्ताब्लिशेमेंट डे मानती है|

Connect with Us! अपनी राय कमेंट्स में दें. ताजा ख़बरों के लिए हमें फॉलो करें. अगर आपको ये पोस्ट पसंद आई, तो इसे लाइक और शेयर करना न भूलें. Subscribe our Youtube Channel: AajKaReporter Follow us on: Facebook, Twitter, Instagram