सुविधावंचित प्रतिभाशाली बच्चों को मेडिकल प्रवेश परीक्षा की तैयारी मुफ्त में

बिहार जैसे राज्यों में मेडिकल और इंजीनियरिंग की एक अलग चमक-धमक है, यहाँ के अधिकांश माता-पिता अपने बच्चों को करियर के इन्ही दो विकल्पों में ही भेजना चाहते है किन्तु दोनों ही करियर में सीमित विकल्प होने के कारण सभी को सफलता नहीं मिलती, कभी प्रतिभा तो कभी सामर्थ्य आड़े आ जाती है। सुविधावंचित छात्र तो ‘मेडिकल और इंजीनियरिंग’ की प्रवेश परीक्षा की तैयारियां करवाने वाली कोचिंग की फीस देख कर ही इसकी इच्छा का त्याग कर देते है।

‘उर्मिला सिंह प्रताप धारी सिन्हा फाउंडेशन’ के अंतर्गत ‘अभयानंद सुपर 30‘ के माध्यम से सुविधावंचित प्रतिभशाली बच्चो को आईआईटी की प्रवेश परीक्षा की तैयारी कराई जाती है। ‘अभयानंद सुपर 30’ ने अपने पहले बैच से ही आईआईटी की प्रवेश परीक्षा में सफलता का कीर्तिमान बनाया और गुवहाटी जोन का ‘तीसरा’ और ‘पांचवां’ टॉपर इस संस्थान से ही आया। अपनी इस अभूतपूर्व सफलता से उत्साहित होकर ट्रस्ट के द्वारा  किये जा रहे समाजिक उत्थान कार्यो में एक और ‘मील का पत्थर’ जड़ते हुए मेडिकल की प्रवेश परीक्षा की तैयारी के लिए ‘अभयानंद मेडिकल सुपर 30’ की नींव रखी। इस संस्था के माध्यम से प्रत्येक वर्ष 30 निर्धन, पिछले तबके, आर्थिक रूप से कमजोर किन्तु प्रतिभाशाली बच्चों को मुफ्त शिक्षा (मेडिकल की तैयारी), आवास और भोजन प्रदान किया जाएगा। संस्थान का मानना है कि आगे बढ़ने के मौके समान रूप से सभी को मिलने चाहिए।

‘अभयानंद मेडिकल सुपर 30’ के पहले बैच के लिए 30 सुविधवंचित प्रतिभाशाली बच्चे आवयश्क है जिसके लिए एक जांच परीक्षा का आयोजन किया जाएगा। अपने निर्धारित एकेडमिक कैलेंडर के अनुसार इस जाँच परीक्षा का आयोजन 12 मई को किया जा रहा है। आवेदन फॉर्म संस्थान की वेबसाइट http://www.abhayanandsuper30.org/wp-content/uploads/2018/04/AS30-Exam-Notice.pdf  पर उपलब्ध है। भरे हुए आवेदन पत्र 10 मई तक संस्था, के कार्यालय में स्वीकार किये जाएंगे।

‘उर्मिला सिंह प्रताप धारी सिन्हा फाउंडेशन’ की स्थापना ए.डी. सिंह ने अपने पिता स्वर्गीय प्रताप धारी सिन्हा व माता उर्मिला सिंह की स्मृति में किया है। उनका मानना है कि देश का विकास, युवाओं के विकास से ही होगा, इसलिए उन्होंने देश के कल का आज संवारने का बीड़ा उठाया है। संस्था का मुख्य उद्देश्य समाज मे पिछड़े वर्ग को गुणवत्तापूर्ण शिक्षा उपलब्ध करवाना है, जिससे कि उनका सर्वांगीन विकास हो। उनके इस सोच को साकार करने में एकेडमिक सहयोग के लिए बिहार के शिक्षाविद व पूर्व डीजीपी अभयानंद का साथ मिला। सारी शैक्षणिक गतिविधियों अभयानंद के निर्देशन में होती है। जहाँ अभयानंद का व्यक्तित्व ही आज के छात्रों के लिए प्रेरणा का स्त्रोत है वहीं उनकी सुलभ उपलब्धता उनके सहज सादगीपूर्ण व्यवहार को दर्शाती है। वो छात्रों को फिजिक्स के गुर भी सिखाते हैं। ‘compete & collaborate’, प्रत्येक दिन ‘test followed by discussion’ इन मुलमंत्रो का अनुसरण करते हुए प्रवेश परीक्षाओं की तैयारी की जाती है।

समाजिक एकीकरण के लिए प्रयासरत इस ट्रस्ट, इसके ट्रस्टी ए. डी. सिंह, निर्देशक अभयानंद, कार्यक्रम-समन्वयक पंकज जी और समस्त शिक्षक एवं सहयोगियो को हौसलाअफजाई की जरूरत है, ताकि ऐसे प्रयासों को अधिक से अधिक लोग जाने एवं सक्षम लोग इस प्रकार के प्रयासों का पहल करे। इस प्रकार के पहल से ही सामाजिक विषमताओं को दूर किया जा सकता है एवं विकास की राह पर लौटाया जा सकता है।

अगर आपकी नजर में भी कोई सुविधावंचित प्रतिभशाली छात्र हो तो उसे इस मौके की जानकारी जरूर दे, यह जानकारी उसका काल संवार सकती है। 2018 में किसी भी बोर्ड से 10वीं की परीक्षा दे चुके छात्र/छात्राएं इस के लिए आवेदन कर सकती है।

विस्तृत जानकारी के लिए कार्यालय या वेबसाइट Abhayanand Super 30 या फेसबुक पेज पर

Facebook Page पर विजिट करे।

Connect with Us! अपनी राय कमेंट्स में दें. ताजा ख़बरों के लिए हमें फॉलो करें. अगर आपको ये पोस्ट पसंद आई, तो इसे लाइक और शेयर करना न भूलें. Subscribe our Youtube Channel: AajKaReporter Follow us on: Facebook, Twitter, Instagram