प्रवर्तन निदेशालय ने शारदा चिटफंड घोटाला मामले में, पी चिदंबरम की पत्नी नलिनी चिदंबरम को फिर से भेजा समन

पूर्व वित्त मंत्री पी चिदंबरम की और उनके परिवारों पर आए दिन कोई ना कोई आफत आकर गिर रही है। पी चिदंबरम की पत्नी नलिनी चिदंबरम को प्रवर्तन निदेशालय ने सोमवार को एक बार फिर से शारदा चिटफंड घोटाला मामले के तहत समन भेजा है। ईडी ने एयरसेल मैक्सिस डील के मामले में पी चिदंबरम की गिरफ्तारी पर 10 जुलाई तक की रोक लगा दी है लेकिन ईडी ने पी चिदंबरम की पत्नी को समन भी भेज दिया है।

पहले भी जारी हो चुका है समन, मद्रास उच्च न्यायालय में गया था मामला

पी चिदंबरम की पत्नी नलिनी चिदंबरम को इससे पहले भी समन जारी किया जा चुका है। इससे पहले प्रवर्तन निदेशालय ने नलिनी चिदंबरम के लिए 7 मई को एक समन जारी किया था।  प्रवर्तन निदेशालय के अधिकारियों ने बताया है कि नलिनी चिदंबरम को केंद्रीय जांच एजेंसी ने कोलकाता कार्यालय में 20 जून को बुलाया था जहां पर उनसे पूछताछ की गई थी। नलिनी चिदंबरम ने मद्रास उच्च न्यायालय में इस समन के खिलाफ अपील भी दायर की थी। मद्रास उच्च न्यायालय में दायर अपील के लिए नलिनी चिदंबरम के वकील ने न्यायमूर्ति एसएम सुब्रमण्यम के द्वारा दिए गए 24 अप्रैल के उस आदेश को चुनौती दी थी जिसमें न्यायाधीश ने शारदा चिटफंड घोटाले के मनी लॉन्ड्रिंग केस में, गवाह के रूप में उपस्थित होने से छूट वाली याचिका को खारिज कर दिया था। न्यायाधीश ने नलिनी चिदंबरम की याचिका को खारिज करते हुए कहा था कि “सी.आर.पी.सी.” की ‘धारा 160’ के तहत “महिलाओं को उनके निवास स्थान से अलग जांच के लिए नहीं बुलाया जा सकता है।” न्यायाधीश ने कहा था हालांकि यह अनिवार्य नहीं है लेकिन यह तथ्यों और परिस्थितियों के अनुरूप है। जिसके बाद न्यायाधीश ने प्रवर्तन निदेशालय को ताजा समन जारी करने के लिए कहा। जिसके बाद एजेंसी ने 30 अप्रैल को समन जारी करके नलिनी चिदंबरम को 7 मई से पहले पेश होने के लिए कहा था। न्यायाधीश ने कहा कि प्रवर्तन निदेशालय मनी लॉन्ड्रिंग एक्ट की रोकथाम के लिए नलिनी चिदंबरम का बयान दर्ज करना चाहती है।

गौरतलब है कि शारदा चिटफंड मामला काफी समय से सुर्खियों में है। शारदा चिटफंड घोटाला मामले में प्रवर्तन निदेशालय ने 7 सितंबर 2016 को नलिनी चिदंबरम को पहली बार समन जारी किया था। जिन्हें शारदा चिटफंड घोटाला मामले में गवाह के रूप में प्रवर्तन निदेशालय के कोलकाता स्थित कार्यालय में उपस्थित होने के लिए कहा गया था। प्रवर्तन निदेशालय ने फिर से समन जारी किया है तो अब देखना यह है कि इस समन के बाद क्या तथ्य उभरकर सामने आते हैं।

Connect with Us! अपनी राय कमेंट्स में दें. ताजा ख़बरों के लिए हमें फॉलो करें. अगर आपको ये पोस्ट पसंद आई, तो इसे लाइक और शेयर करना न भूलें. Subscribe our Youtube Channel: AajKaReporter Follow us on: Facebook, Twitter, Instagram