बल्लेबाज़ पृथ्वी शॉ ने किया बिहार का नाम जग में रोशन

बिहार में जहां राजनीति और दंगे फसाद का माहौल फैला हुआ है वहीं इसी माहौल के बीच एक कमल का फूल खिल के सामने आया है जिसका नाम पृथ्वी शॉ है। यह पृथ्वी बिहार के गया जिले के मानपुर गांव का रहने वाला है जिसने अपने जीवन के पहले क्रिकेट मैच में शतक जड़ दिया है। पृथ्वी के शतक जड़ने के बाद बिहार में खुशियों का माहौल फैला हुआ है और उसके परिजन मानपुर गांव में हर्ष और उल्लास से गांव भर में मिठाइयां बांट रहे हैं।

गया काया पुत्र बिहार के लिए एक उज्जवल पुत्र या कहे तो सचिन तेंदुलकर का दूसरा रुप है।दरअसल, सचिन तेंदुलकर के बाद पृथ्वी शॉ भारत के दूसरे सबसे कम उम्र के खिलाड़ी बने हैं जिसने अपनी जिंदगी के पहले टेस्ट सीरीज में शतक लगाए। इसके अलावा उन्होंने सबसे तेजी से पहला टेस्ट शतक लगाने वाले बल्लेबाजों की सूची में तीसरा स्थान प्राप्त किया है। पृथ्वी ने 99 गेंदों में अपना शतक पूरा किया। उनसे पहले शिखर धवन ने 2013 में मोहाली में आस्ट्रेलिया के खिलाफ 85 गेंदों में शतक लगाया था, वहीं दूसरे स्थान पर शामिल ड्वेन स्मिथ ने दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ 2004 में 93 गेंदों में अपना पहला टेस्ट शतक जड़ा था। केवल यही नहीं  पृथ्वी अंतरराष्ट्रीय स्तर पर अपने करियर का पहला शतक जड़ने वाले दूसरे सबसे युवा बल्लेबाज हैं। पृथ्वी ने 18 साल और 329 दिन की उम्र में करियर का पहला अंतरराष्ट्रीय शतक लगाया है।

पृथ्वी ने अपने इस शतक जड़ने के बाद बिहार में इतिहास रच दिया है और बिहार के साथ ही साथ पूरे देश में भी अपना नाम रोशन कर दिया है। आपको बता दे कि पृथ्वी की मां पृथ्वी के बचपन में ही गुजर गई थी। जब पृथ्वी 4 साल का था तब उसकी मां ने अपना दम तोड़ दिया। लेकिन पृथ्वी आज भी अपनी मां का नाम रोशन कर रहा है उनको अपना मार्गदर्शक मानता है।

Connect with Us! अपनी राय कमेंट्स में दें. ताजा ख़बरों के लिए हमें फॉलो करें. अगर आपको ये पोस्ट पसंद आई, तो इसे लाइक और शेयर करना न भूलें. Subscribe our Youtube Channel: AajKaReporter Follow us on: Facebook, Twitter, Instagram