इस बार 32 दिन का होगा सोनपुर मेला 2017

सोनपुर मेला बिहार के सोनपुर में हर साल नवंबर- दिसंबर (कार्तिक पूर्णिमा) में लगता है। बुधवार 18 अक्टूबर को पटना में चीफ सेकेरेट्री और ड़ीजीपी की बैठक में निर्णय लिया गया है कि सोनपुर मेला 2017, 2 नवंबर से लेकर 3 दिसंबर तक यानी कुल 32 दिनों तक लगेगा।

मेले को लेकर संबंधित विभागों को कार्य आवंटित करने की भी योजन बन गयी है। इस बार मेले में नौका दौड़, दंगल, शूटिंग, वाटर सर्फिंग और पतंगवाजी सहित विभिन्न खेलो एवं प्रतियोगिताओं का भी आयोजन किया जाएगा जिस से की ज्यादा से ज्यादा लोग मेले में आकर्षित हो। ज्ञात हो कि सोनपुर मेला एशिया का सबसे बड़ा पशु मेला है, जिसे की हरिहर मेला के नाम से भी जाना जाता है। स्थानीय लोग इसे छत्तर मेला से भी जानते है।

प्राचीन समय से ही यह मेला जंगी हाथियों का सबसे बड़ा केंद्र था। मौर्य वंश के संस्थापक चंद्रगुप्त मौर्य, मुगल सम्राट अकबर और 1857 के प्रथम स्वतंत्रता संग्राम के नायक, बिहारी योद्धा वीर कुंवर सिंह ने भी यही से हाथियों की खरीदारी की थी। इस मेले में आपको विदेशी पर्यटक भी दिख जाएंगे, उनमैं भी इस मेले के प्रति खास आकर्षण देखा जाता रहा है। अमेरिका, फ्रांस एवं जर्मनी और अन्य विदेशी एवं देशी पर्यटकों को आकर्षित करने के लिए स्विस कॉटेजों का निर्माण किया जाता है।

इस मेले में आज भी लोगो की भीड़ नौटंकी और नाच देखने के लिए उमड़ती है। इस मेले मेंआज भी घोड़ो और हाथियो की खरीद हमेशा से ही सुर्खियों में रहती है। बिहार की राजधानी पटना से सड़क मार्ग महात्मा गांधी सेतु पूल से होते हुए लगभग 25 किलोमीटर तथा वैशाली जिले के मुख्यालय हाजीपुर से मात्र 3 किलोमीटर दूर, गंडक नदी के किनारे लगने वाले इस मेले ने देश में पशु मेलों को अलग पहचान दी है।

प्राचीन समय मे यह मेला हाजीपुर में लगता था, सिर्फ हरिहर नाथ की ओज सोनपुर में होती थी किन्तु मुगल बादशाह औरंगजेब के आदेश के पश्चात मेला भी सोनपुर में ही लगने लगा। तो चलिए चले चलते है इस बार सोनपुर का मेला; बहुत कुछ है हमारे ओर आपके लिए।

Connect with Us! अपनी राय कमेंट्स में दें. ताजा ख़बरों के लिए हमें फॉलो करें. अगर आपको ये पोस्ट पसंद आई, तो इसे लाइक और शेयर करना न भूलें. Subscribe our Youtube Channel: AajKaReporter Follow us on: Facebook, Twitter, Instagram