पटना के स्कूलों की बदल रही है सूरत

शिक्षा व्यवस्था में सुधार की ओर कदम बढ़ाते हुए बिहार आज आगे बढ़ रहा है वहीं बिहार राज्य की राजधानी पटना में सरकारी स्कूलों की दशा को सुधारने में लगातार प्रयास जारी हैं और इसी कड़ी में आगे बढ़ते हुए पटना के सरकारी स्कूलों की अब हालात धीरे-धीरे पटरी पर आने लगी है जिसके बाद यह कहा जा सकता है कि आगे आने वाले समय में बिहार शिक्षा व्यवस्था में अपनी एक अलग छवि स्थापित अवश्य करेगा।

इनरव्हील क्लब ऑफ पटना ने उठाया है बीड़ा – 

सरकारी स्कूलों के कमरे तो अक्सर बड़े-बड़े बनाए जाते हैं लेकिन उनमें मास्टर की मौजूदगी और शिक्षा की गुणवत्ता की अनुपलब्धता हमेशा देखने को मिलती है लेकिन सरकारी स्कूलों की दशा को कोसने के बजाय इनरव्हील क्लब ऑफ पटना की महिलाओं ने उसे पटरी पर लाने का बीड़ा उठाया है इनरव्हील क्लब ऑफ पटना ने अब तक 12 सरकारी स्कूलों को गोद लिया है और उसे सुधारने के लिए लगातार प्रयास में लगे हुए हैं। इस क्लब का उद्देश्य है कि सरकारी स्कूलों को ज्यादा से ज्यादा बेहतर बनाया जा सके इसलिए इनरव्हील क्लब इन सरकारी स्कूलों को हैप्पी स्कूल बना रहा है।

इनरव्हील क्लब की अध्यक्ष विभाग चरण पहाड़ी बताती है कि आने वाले समय में अक्टूबर माह में दो और सरकारी स्कूलों को गोद लिया जाएगा और उनकी देखरेख पर ध्यान दिया जाएगा अक्टूबर में गोद लिए जाने वाले सरकारी स्कूल जगदेव पथ स्थित मुरलीचक प्राथमिक विद्यालय और फुलवारी स्थित उफरपुरा प्राथमिक विद्यालय का नाम शामिल है।

Connect with Us! अपनी राय कमेंट्स में दें. ताजा ख़बरों के लिए हमें फॉलो करें. अगर आपको ये पोस्ट पसंद आई, तो इसे लाइक और शेयर करना न भूलें. Subscribe our Youtube Channel: AajKaReporter Follow us on: Facebook, Twitter, Instagram