“कठुआ बलात्कार मामला शर्मनाक” – राष्ट्रपति

राष्ट्रपति श्री.रामनाथ कोविंद जी बुधवार को श्री माता वैष्णो देवी यूनिवर्सिटी (एसएमवीडी) के छठे दीक्षांत समारोह को संबोधित कर रहे थे। अपने इस संबोधनपर भाषण में उन्होंने, जम्मू-कश्मीर के कठुआ में नौ साल की बच्ची के साथ हुए रेप और हत्या मामले में उन्होंने नाराजगी जताई और देशभर में बच्चियों की सुरक्षा सुनिश्चित करने के लिए, एक संकल्प लेने को कहा। उन्होंने कहा, कि अच्छी शिक्षा व्यवस्था वह है, जो हर विद्यार्थी को अच्छा इंसान बनाए, एक ऐसा इंसान जिसमें दूसरों के लिए संवेदनशीलता और सम्मान हो, साथ ही उन्होंने कहा, की “बच्चों की मुस्कुराहट दुनिया की सबसे खूबसूरत चीज होती है। यह दुर्भाग्यपूर्ण है कि देश के विभिन्न हिस्सों में महिलाओं के खिलाफ अपराध हो रहे हैं, ‘‘हाल ही में एक बच्ची एक घृणित और नृशंस अपराध की शिकार हुई जिसकी कोई कल्पना भी नहीं कर सकता।’’ उन्होंने पूछा, ‘‘क्या हम ऐसा समाज विकसित कर रहे हैं, जहाँ हमारी मां– बहनों और बेटियों को संविधान में दिए गए न्याय, बराबरी और स्वतंत्रता के अधिकार मिल रहे हैं? ‘‘आजादी के 70 साल बाद भी देश में इस तरह की घटनाओं का होना शर्मनाक है। हम सभी को सोचना होगा, कि हम कहां जा रहे हैं और हम अपनी आने वाली पीढी को क्या दे रहे हैं। उन्होंने कहा कि बच्चों के खिलाफ हिंसा मानवता के लिए बहुत चिंतित करने वाली बात है। हम सभी की जिम्मेदारी बनती है, कि देश के किसी भी भाग में किसी बेटी या बहन के साथ ऐसा न हो। जो अच्छा इंसान होगा, वह जीवन में कहीं पर भी अच्छा होगा। अपने क्षेत्र में अलग छाप छोड़ेगा। यह दुर्भाग्यपूर्ण है, कि आज भी बेटों के मुकाबले बेटियों पर अधिक पाबंदियां लगाई जाती हैं। अभी कॉमनवेल्थ गेम्स में ही देश की कई बेटियों ने मेडल जीता, जिनमें मेरीकॉम, मनिका बत्रा, संगीता चानू, मीराबाई शामिल हैं। कॉमनवेल्थ गेम्स में देश की बेटियों ने परचम लहराकर भारत का मान बढ़ाया है, हमारा और देश का नाम रोशन कर रही हैं। उन्होंने मुख्यमंत्री महबूबा मुफ्ती की तारीफ करते हुए कहा, कि वह अपने पिता मुफ्ती मोहम्मद सईद की सोच और विरासत को आगे बढ़ाते हुए तमाम मुश्किलों के दौर से निकलकर इस कठिन और संवेदनशील प्रदेश को कुशल नेतृत्व दे रही हैं।

उपराष्ट्रपति एम वेंकैया नायडू ने भी कहा, कि यह दुर्भाग्यपूर्ण है कि देश अब भी महिलाओं के उत्पीड़न के मामलों का सामना कर रहा है। उन्होंने कहा, कि ऐसे अपराध की घटनाएं सिर्फ एक नया कानून बनाने से नहीं रूकेंगी बल्कि इस तरह के अपराधों को खत्म करने के लिए पुरुषों की मानसिकता में बदलाव की जरूरत है।

     

इसी कार्यक्रम में जम्मू-कश्मीर की मुख्यमंत्री महबूबा मुफ्ती ने कहा है, कि ये धरती माता वैष्णो देवी की है, यहां कोई कैसे एक छोटी बच्ची के साथ इस प्रकार की हरकत कर सकता हैं। समाज में काफी कुछ गलत हो रहा है और इसके जिम्मेदार हम सब लोग हैं,जो ऐसी प्रवृत्ति वाले लोगों को बढ़ावा दे रहे हैं।

Connect with Us! अपनी राय कमेंट्स में दें. ताजा ख़बरों के लिए हमें फॉलो करें. अगर आपको ये पोस्ट पसंद आई, तो इसे लाइक और शेयर करना न भूलें. Subscribe our Youtube Channel: AajKaReporter Follow us on: Facebook, Twitter, Instagram