कर्नाटक विधानसभा: नजरें नतीजों पर, समीकरण हो रहे तैयार;

कर्नाटक विधानसभा

कर्नाटक विधानसभा की 224 में से 222 सीटों के लिए शनिवार को मतदान समाप्त हुए। इस चुनाव में कुल 70% वोटिंग दर्ज की गई। कर्नाटक की जयानगर सीट से बीजेपी उम्मीदवार B.N. विजयकुमार के निधन के बाद इस सीट पर चुनाव रद्द कर दिया, वहीं R.R. नगर विधानसभा क्षेत्र के एक अपार्टमेंट में तक़रीबन 10 हजार फेक वोटर आईडी कार्ड चुनाव अधिकारियों ने बरामद करने के बाद, इस क्षेत्र का चुनाव पोस्टपोन कर दिया गया है। हालांकि 2013 के कर्नाटक चुनाव में 71.4% मतदान हुआ था। कर्नाटक चुनाव आयोग के मुताबिक, सबसे ज्यादा 76% मतदान चिक्काबल्लापुरा क्षेत्र और रामनगर क्षेत्र में दर्ज किया गया। जबकि बेंगलुरु शहर में सबसे कम 48% वोट दर्ज किए गए, ये हैरान कर देने वाली बाद हैं। वहीं, रायचूर जिले के कदादगड्डे द्वीप के ग्रामीणों ने चुनाव का बहिष्कार किया।कर्नाटक राज्य के 4 करोड़ से भी ज्यादा मतदाता अगले 5 साल के लिए अपनी सरकार चुनने के लिए मतदान कर चुके हैं। विकास और भ्रष्टाचार के मुद्दों से शुरू हुआ चुनाव प्रचार आखिर तक आते-आते मोदी बनाम गांधी की लड़ाई में बदल गया। चुनाव प्रचार के पहले दौर में कांग्रेस के मुकाबले भाजपा पिछड़ती दिखाई दे रही थी, लेकिन प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के मैदान में उतरते ही भाजपा कार्यकर्तांओं और समर्थकों में खासा जोश आ गया और भाजपा कड़े मुकाबले में आ गई। खासकर तटीय कर्नाटक, बेंगालुरू, मध्य कर्नाटक, हैदराबाद कर्नाटक के भाजपा के प्रभावक्षेत्र में मोदी की रैलियों का काफी असर पड़ा।     अब 15 मई को वोट काउंटिंग है। हालांकि इनमें से ज्यादातर एग्ज़िट पोल ने किसी भी पार्टी को इतनी सीटें नहीं दी हैं, जिससे उनकी सरकार बना सकें। लगभग सारे एग्ज़िट पोल त्रिशंकु विधानसभा की ओर इशारा कर रहे हैं। हालांकि अब तक हुए तमाम एग्ज़िट पोल्स का रिकॉर्ड देखें, तो ये  एग्ज़िट पोल्स कई बार गलत भी साबित हुए हैं। लेकिन कर्नाटक राज्य के विधानसभा चुनाव के एग्जिट पोल्स के तरफ देखे तो, ज्यादातर एग्जिट पोल के अनुमानों में किसी भी दल को स्पष्ट बहुमत नहीं मिलने की संभावना जताई गई है। कुछ चैनलों का अनुमान है कि, भाजपा सबसे बड़ी पार्टी के रूप में उभर सकती है, तो कुछ ने कांग्रेस को सबसे अधिक सीटें मिलने की संभावना जताई है। वैसे, असली तस्वीर 15 मई को होने वाली मतगणना में ही सामने आएगी, अगर त्रिशंकु विधानसभा की स्थिति बनती हैं, तो जनता दल सेक्युलर पार्टी किंगमेकर की भूमिका में होगा। हालांकि, राज्य में दोनों दल भाजपा और कांग्रेस अपनी-अपनी सरकार बनाने के दावे कर रहे हैं।

तो आइए जानते हैं क्या हैं, तमाम लोकप्रिय एग्जिट पोल का कहना,
1.टाइम्स नाउ-वीएमआर

भाजपा- 80 -93
कोंग्रेस- 90 – 103
JDS- 31-39

2.आज तक एक्सिस

भाजपा- 79-92
कोंग्रेस-  106-118
JDS- 22-30

3.एबीपी-सी वोटर

भाजपा- 101-113
कोंग्रेस- 82-94
JDS- 18-31

4.न्यूज एक्स-सीएनएक्स

भाजपा- 102-110
कोंग्रेस- 72-78
JDS- 35-39

5.रिपब्लिक-जन की बात

भाजपा- 95-114
कोंग्रेस- 73-82
JDS- 32-43

आपको बता दें, गुजरात एग्ज़िट पोल के दौरान लगभग सभी एजेंसियों ने कहा था कि, बीजेपी आराम से बहुमत हासिल कर लेगी, लेकिन कोई भी एजेंसी सीटों की ठीक जानकारी नहीं जुटा पाई। पंजाब विधानसभा चुनाव में कोई भी एग्ज़िट पोल इस बात का अनुमान नहीं लगा पाया कि, आम आदमी पार्टी को पुरी तरह से धूल चाटनी पड़ेगी। ज़्यादातर पोल एजेंसियों का कहना था कि, कांग्रेस और आम आदमी पार्टी के बीच टक्कर होगी, लेकिन ये सारी बातें बिलकुल गलत साबित हुई। यूपी विधानसभा चुनावों में कहा था कि, बीजेपी एक बार फिर सत्ता में आएगी,  लेकिन किसीने ये नहीं बताया था कि, बीजेपी को इतनी ज्यादा सीटें मिलेंगी और सपा-कांग्रेस का पूरी तरह से नामोनिशान मिट जाएगा। बिहार विधानसभा चुनाव में भी एग्ज़िट पोल कुछ खास सही नहीं रहे।

Connect with Us! अपनी राय कमेंट्स में दें. ताजा ख़बरों के लिए हमें फॉलो करें. अगर आपको ये पोस्ट पसंद आई, तो इसे लाइक और शेयर करना न भूलें. Subscribe our Youtube Channel: AajKaReporter Follow us on: Facebook, Twitter, Instagram