महाराष्ट्र में भड़की मराठा मोर्चा की आग, कई जगहों पर आंदोलन हुआ हिंसक

मराठा संगठनों ने सरकारी नौकरियों में आरक्षण की मांग को लेकर गुरुवार को महाराष्ट्र बंद बुलाया था। हालांकि मराठा नेताओं ने अपने समर्थकों से अपील की थी कि वे बंद में शांतिपूर्वक हिस्सा लें और किसी भी तरह की हिंसा ना करें। लेकिन सुबह आठ से शुरू हुआ बंद का हिंसक रूप पुणे में गुरुवार दोपहर से शाम तक दिखा। पुणे में बस और इंटरनेट सेवाएं बंद कर दी गई थी साथ ही प्रदर्शनकारी  हिंजेवड़ी और कोठरुद इलाके में स्थित आईटी कंपनियों में अचानक घुस गए, जहां उन्होंने पत्थरबाजी की। बंद के चलते बाजारों में सब्जियां नहीं आईं जिसके चलते लोगों को काफी परेशानी हुई।

साथ ही नागपुर, औरंगाबाद, नाशिक, अहमदनगर में भी  बंद का हिंसक रूप दिखाई दिया। इन सभी शहरों में काफी तादाद में पुलिस बल तैनात किए गए थे, इसलिए ज्यादा अनुचित प्रकार नहीं हो पाए। इससे पहले मराठा आरक्षण को लेकर जारी खुदकुशी पर चिंता व्यक्त करते हुए बांबे हाईकोर्ट ने कहा था कि मराठा समुदाय के लोग धैर्य रखें। न तो हिंसक गतिविधियों में शामिल हों और न ही आत्महत्या जैसा आत्मघाती कदम उठाएं। क्योंकि, मामला अभी अदालत में न्यायालय में विचाराधीन है। वहीं, राज्य सरकार से आरक्षण की दिशा में उठाए गए कदमों की प्रगति रिपोर्ट 10 सितंबर तक पेश करने का निर्देश दिया है।आपको बता दे की मराठा क्रांति मोर्चा ने 9 अगस्त को महाराष्ट्र बंद का आह्वान काफी पहले से कर ऱखा था। लेकिन 23 जुलाई को अचानक औरंगाबाद में एक युवक के नदी में कूदकर आत्महत्या कर लेने के कारण पूरे महाराष्ट्र में आंदोलन भड़क उठा और अगले 2 दिन महाराष्ट्र के विभिन्न हिस्सों में न केवल बंद रहा, बल्कि हिंसक आंदोलन भी कई दिन तक होते रहे। इसके बावजूद मराठा क्रांति मोर्चा 9 अगस्त को पुनः बंद आहूत करने पर अड़ा है।

Connect with Us! अपनी राय कमेंट्स में दें. ताजा ख़बरों के लिए हमें फॉलो करें. अगर आपको ये पोस्ट पसंद आई, तो इसे लाइक और शेयर करना न भूलें. Subscribe our Youtube Channel: AajKaReporter Follow us on: Facebook, Twitter, Instagram