सनातन संस्था के ऊपर फिर लगा दाग, विस्फोटक सामग्री के साथ गिरफ्तार हुआ सदस्य

महाराष्ट्र एटीएस ने मुंबई से करीब पालघर जिले के नालासोपारा में सनातन संस्था से जुड़े वैभव राउत को विस्फोटक सामग्री के साथ शुक्रवार को गिरफ्तार कर लिया। गुरुवार रात एटीएस ने उसके घर पर छापा मारा था। एटीएस का दावा है कि वैभव राउत के मुंबई में नालासोपारा स्थित घर से 22 क्रूड बम और जिलेटिन स्टिक्स मिली हैं। वो ये भी दावा कर रहे हैं कि तीनों संदिग्ध एक-दूसरे के संपर्क में थे। यहां से घर से कुछ दूर स्थित उसकी दुकान में सल्फर और डेटोनेटर भी मिले। जब्त किए गए सल्फर से 25-30 बम बनाए जा सकते हैं। आपको बता दे की सनातन संस्था का नाम नरेंद्र दाभोलकर, एमएम कलबुर्गी, गोविंद पानसरे और गौरी लंकेश की हत्या से भी जुड़ चुका है। साथ ही इस संस्था से जुड़े लोगों की गिरफ्तारी 2007 में घटित वाशी, ठाणे, पनवेल और 2009 में गोवा बम धमाके के लिए किया गया था।

हालांकि एटीएस ने अदालत को बताया है कि उन्हें यह सूचना मिली थी कि कुछ अज्ञात लोग पुणे, सतारा, नालासोपारा और मुंबई में चरमपंथी गतिविधियों को अंजाम दे सकते हैं। गिरफ़्तार किए गए तीन लोगों में से कलास्कर के घर से एक काग़ज़ मिला है जिस पर बम बनाने की विधि लिखी हुई है। जिसके बाद मुंबई की विशेष अदालत ने अभियुक्तों को 18 अगस्त तक के लिए पुलिस हिरासत में भेज दिया है।

आपको बता दें कि वैभव राउत के बारे में जब गूगल पर सर्च किया गया तो सनातन संस्था से सम्बन्धित पेज खुले लेकिन उनमें से कई लिंक अब खुल नहीं रहे हैं। लेकिन संस्था ने इस दावे को ख़ारिज़ किया है। सनातन संस्था से जुड़े सुनील घनावत ने वैभव को ‘हिंदू गोवंश रक्षा समिति’ का सदस्य बताया है। वही सुधना गोंडलेकर को संभाजी भिड़े की संस्था शिव प्रतिष्ठान का कार्यकर्ता बताया जा रहा है।

Connect with Us! अपनी राय कमेंट्स में दें. ताजा ख़बरों के लिए हमें फॉलो करें. अगर आपको ये पोस्ट पसंद आई, तो इसे लाइक और शेयर करना न भूलें. Subscribe our Youtube Channel: AajKaReporter Follow us on: Facebook, Twitter, Instagram